उन्‍नाव कांड पर सुप्रीम कोर्ट सख्‍त, आज 12 बजे तक जांच रिपोर्ट सौंपने को कहा

नई दिल्‍ली। सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को उन्नाव रेप के से जुड़े सभी मामलों को उत्तर प्रदेश से दिल्ली ट्रांसफर करने के संकेत दिए हैं। कोर्ट ने सुनवाई करते हुए इस मामले में अब तक हुई जांच और रायबरेली में इसी हफ्ते हुई सड़क दुर्घटना को लेकर पूरी जानकारी मांगी। कोर्ट ने उन्नाव केस में जांच की स्टेटस रिपोर्ट और एक्सीडेंट केस में अब तक हुई सीबीआई जांच की रिपोर्ट 12 बजे तक सौंपने को कहा। मुख्य न्यायधीश रंजन गोगोई के नेतृत्व वाली बेंच ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से कहा कि 12 बजे तक सीबीआई के किसी जिम्मेदार अधिकारी को बुलाइए।
फोन से जानकारी लेकर अभी दें स्टेटस रिपोर्ट: CJI
सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने SC को बताया कि उक्त मामले की जांच सीबीआई को ट्रांसफर कर दी गई है। सॉलिसिटर जनरल ने सीजेआई को बताया कि मामले की जांच कर रहे सीबीआई अधिकारी लखनऊ में हैं। ऐसे में उनका दोपहर तक यहां आना मुश्किल है। सॉलिसिटर जनरल ने कोर्ट से निवेदन किया कि इसलिए मामले की सुनवाई कल की जा सकती है।
सीजेआई ने मामले की सुनवाई कल करने से इंकार करते हुए कहा, ‘सीबीआई डायरेक्टर से कहिए कि जांच अधिकारी से फोन पर पूरी जानकारी लें और दोपहर 12 बजे तक कोर्ट को अब तक हुई जांच के बारे में बताएं। SC ने सीबीआई को कहा कि अगर वे जांच रिपोर्ट सार्वजनिक नहीं करना चाहते हैं, तो बंद कमरे में उक्त मामले की सुनवाई कर सकते हैं।
अगली सुनवाई में मौजूद रहें सॉलिसटर जनरल और CBI: कोर्ट
सुप्रीम कोर्ट ने मामले की अगली सुनवाई के लिए सॉलिसिटर जनरल और सीबीआई अधिकारी को मौजूद रहने का फरमान सुनाया है। सीजेआई ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट इन सभी केसों को लखनऊ से दिल्ली ट्रांसफर करेगा। उन्होंने कहा कि पीड़ित परिवार ने चिट्ठी लिखकर विधायक सेंगर से जान का खतरा होने की बात कही गई थी। चिट्ठी में कहा गया था कि सेंगर ने केस को रफा-दफा न करने पर जान से मारने की धमकी दी है, लेकिन हमें यह चिट्ठी नहीं मिली।
बता दें कि उन्नाव रेप पीड़िता के परिवार ने सुप्रीम कोर्ट को पत्र लिखकर कुलदीप सिंह सेंगर से जान के खतरे की आशंका जताई थी। सर्वोच्च अदालत ने बुधवार को कहा था कि वह ‘इस विध्वंसक माहौल में कुछ रचनात्मक करने की कोशिश करेगा।’
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *