नोएडा के क्वारंटीन मामले में सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार से मांगा हलफनामा

नई दिल्‍ली। यूपी के नोएडा में क्वारंटीन मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सरकार डिटेल हलफनामा दायर करे कि नोएडा में जिन लोगों को कोरोना का लक्षण नहीं है, क्या उन्हें इंस्टिट्यूशन क्वारंटीन किया जा रहा है?
सुप्रीम कोर्ट ने नोएडा में एक गर्भवती महिला के अस्पताल में भर्ती नहीं किए जाने के मामले को भी गंभीरता से लिया है।
सुप्रीम कोर्ट ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से मामले में सहयोग करने को कहा है। सुप्रीम कोर्ट ने नोएडा एडमिनिस्ट्रेशन से कहा है कि वह सुनिश्चित करे कि क्वारंटीन मामले में वह अलग गाइडलाइंस न बनाएं। यूपी सरकार से इस मामले में दो हफ्ते में हलफनामा पेश करने को कहा है। सुप्रीम कोर्ट में मामले की सुनवाई के दौरान कहा कि नोएडा एडमिनिस्ट्रेशन के मामले को नकारने की कोशिश न करें। अदालत ने सामने क्वारंटीन के गाइडलाइंस और प्रिगनेंट लेडी के अस्पताल में भर्ती न करने के मामले में दो हफ्ते में डिटेल हलफनामा पेश करें।
सुप्रीम कोर्ट ने कहा पिछली सुनवाई में कहा था कि क्वारंटीन के लिए जो राष्ट्रीय गाइडलाइंस तय की गई हैं उसके विपरीत गाइडलाइंस नहीं हो सकतीं। अदालत ने यूपी सरकार से इस मामले में जवाब मांगा था। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि नेशनल गाइडलाइंस के विपरीत आदेश नहीं हो सकता। इस तरह के आदेश के अव्यवस्था और अराजक स्थिति पैदा होती है। सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार से कहा था कि वह देखे कि नोएडा में बिना लक्षण वाले कोरोना मरीज के लिए क्वारंटीन का क्या नियम अमल हो रहा है। आप पता लगाएं कि क्या नोएडा में राष्ट्रीय गाइडलाइंस के विपरीत निर्देश जारी किए गए हैं? सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार से इस पर स्पष्टीकरण देने को कहा था।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *