सुन्‍नी वक्फ बोर्ड का फैसला, मस्‍जिद के लिए तय जमीन स्‍वीकार

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड की बैठक में सोमवार को फैसला लिया गया कि बोर्ड यूपी सरकार की ओर से दी गई 5 एकड़ जमीन को स्वीकार करेगा। बोर्ड की बैठक में यह भी तय हुआ कि एक ट्रस्ट बनाकर इस जमीन पर मस्जिद, हॉस्पिटल और लाइब्रेरी जैसी चीजों का निर्माण कराया जाएगा।

बैठक में लिए गए फैसले की जानकारी सुन्नी वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष जुफर अहमद फारुकी ने दी। करीब ढाई घंटे तक चली बैठक में बोर्ड के आठ में से छह सदस्य मौजूद रहे जबकि दो सदस्यों ने बैठक का बहिष्कार किया।

बता दें कि राज्य सरकार ने अयोध्या के रौनाही में मस्जिद के लिए पांच एकड़ भूमि का आवंटन किया था। इस भूमि पर मस्जिद बनाने के लिए एक ट्रस्ट का गठन किया जाएगा। जिसके पदाधिकारियों की घोषणा ट्रस्ट के गठन के बाद की जाएगी।

दो सदस्यों का बहिष्कार
बोर्ड के दो सदस्य अब्दुल रज्जाक और इमरान माबूद ने मीटिंग का बहिष्कार करते हुए सरकारी जमीन लेने का विरोध किया है। उनका कहना है कि शरीयत मस्जिद के बदले कुछ भी लेने की इजाजत नहींं देती।

इंडो-इस्लामिक सभ्यता केन्द्र भी स्थापित होगा

जानकारी के मुताबिक मस्जिद के लिए बनाया जाने वाला ट्रस्ट एक ऐसा केन्द्र भी स्थापित करेगा जहां इंडो-इस्लामिक सभ्यता दिखेगी। साथ ही इस जमीन पर मस्जिद के साथ चैरिटेबल हॉस्पिटल, अध्ययन केन्द्र और पब्लिक लाइब्रेरी के अलावा समाज की उपयोगिता की अन्य चीजें भी बनाई जाएंगी।
आपको बता दें कि उच्चतम न्यायालय ने पिछले 9 नवंबर को अयोध्या मामले में फैसला सुनाते हुए विवादित स्थल पर राम मंदिर का निर्माण करने और सुन्नी वक्फ बोर्ड को मस्जिद निर्माण के लिए किसी प्रमुख स्थान पर पांच एकड़ जमीन देने के आदेश दिए थे। राज्य की योगी आदित्यनाथ कैबिनेट ने 5 फरवरी को अयोध्या जिले के सोहावल इलाके में सुन्नी वक्फ बोर्ड को पांच एकड़ जमीन देने का फैसला किया था।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *