एक सड़क ऐसी भी… जिसे बनाने के लिए मार दिए गए 10 लाख लोग

दुनिया में एक ऐसी सड़क भी है ज‍िसे बनाने में करीब 10 लाख लोगों की जान चली गई। सोव‍ियत संघ के जमाने में ये सभी लोग कैदी थे और उन्‍हें देश के पूर्वी इलाके में सड़क बनाने के ल‍िए लगाया गया था।
रूस के सुदूरवर्ती पूर्वी इलाके में स्थित 2,025 किमी लंबा कोलयमा हाइवे दुनियाभर में एक बार फिर से सुर्खियों में है। रूस के इरकुटस्‍क इलाके में स्थित इस रोड एक बार फिर से इंसानी हड्डियां और कंकाल मिले हैं। स्‍थानीय सांसद निकोलय त्रूफनोव ने कहा कि सड़क पर हर जगह पर बालू के साथ इंसान की हड्डियां बिखरी पड़ी हुई हैं। यह कितना भयावह नजारा है, मैं इसका वर्णन नहीं कर सकता हूं। उधर, सड़क के अंदर से इंसानी हड्डियां निकलने के बाद स्‍थानीय पुलिस ने इसकी जांच शुरू कर दी है। आइए जानते हैं कि हड्डियों की सड़क के नाम से मशहूर इस हाइवे की दिल दहला देने वाली कहानी….
स्‍टालिन के काल में शुरू हुआ खूनी सड़क का निर्माण
बताया जा रहा है कि ठंड के मौसम में बर्फ से जम जाने वाले इस इलाके में सड़क पर गाड़‍ियां न फिसलें, इसके लिए इंसानी हड्डियों को बालू के साथ मिलाकर उसके ऊपर डाला गया है। स्‍टालिन के समय में बनाए गए इस हाइवे के निर्माण की कहानी बहुत ही भयावह है जिसमें ढाई लाख से लेकर 10 लाख लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा। यह हाइवे पश्चिम में निझने बेस्‍टयाख को पूर्व में मगडान से जोड़ता है। एक समय में कोलयमा तक केवल समुद्र या प्‍लेन के जरिए ही पहुंचा जा सकता था। वर्ष 1930 के दशक में सोवियत संघ में स्‍टालिन के तानशाही के दौरान इस हाइवे निर्माण शुरू हुआ। इस दौरान सेववोस्‍तलाग मजदूर शिविर के बंधुआ मजदूरों और कैदियों की मदद से वर्ष 1932 में इसका निर्माण शुरू हुआ।
लाखों कैदियों की लाशों से बन गई ‘हड्डियों की सड़क’
न्‍यूयॉर्क टाइम्‍स की रिपोर्ट के मुताबिक इस हाइवे को बनाने में गुलग के 10 लाख कैदियों और बंधुआ मजदूरों का इस्‍तेमाल किया गया। इन कैदियों में साधारण दोषी और राजनीतिक अपराध के दोषी दोनों ही तरह के लोग शामिल थे। इनमें से कई ऐसे कैदी भी थे जो सोवियत संघ के बेहतरीन वैज्ञानिक भी थे। इनमें रॉकेट वैज्ञानिक सर्गेई कोरोलेव भी थे जो इस कैद के दौरान जिंदा रहे और उन्‍होंने वर्ष 1961 में रूस को अंतरिक्ष में पहला इंसान भेजने में मदद की। इन्‍हीं कैदियों में महान कवि वरलम शलमोव भी थे जिन्‍होंने कोलयमा कैंप में 15 जेल की सजा काटी। उन्‍होंने इस कैंप के बारे में लिखा था, ‘वहां पर कुत्‍ते और भालू थे जो इंसान से ज्‍यादा बुद्धिमानी और नैत‍िकता के साथ व्‍यवहार करते थे। उन्‍होंने अपनी किताब में लिखा था, तीन सप्‍ताह तक खतरनाक तरीके से काम, ठंड, भूख और पिटाई के बाद जानवर बन जाता था।
भागे तो ठंड, भालू के हमले और भूख से मर जाते थे कैदी
कोलयमा के पास 10 साल तक जेल की सजा काटने वाली 93 साल की एंटोनीना नोवोसाद कहती हैं कि सड़क को बना रहे कैदियों को कटीले तार के दूसरी ओर गिरे बेरी के दाने इकट्ठा करने पर उन्‍हें गोली मार दी जाती थी। मरे हुए कैदियों को वहीं सड़क के अंदर ही दफन कर दिया जाता था। इस इलाके में भेजे जाने वाले कैदियों के वापस लौटने का प्रतिशत केवल 20 था। जो लोग इस शिविर से भागते भी थे, वे केवल 2 सप्‍ताह तक ही जिंदा रह पाते थे। इस दौरान या तो वे ठंड से मर जाते थे या भालू के हमले से या फिर भूख से मर जाते थे।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *