India Energy Summit में पहुंचे राजीव एकेडमी के छात्र

मथुरा। राजीव एकेडमी फॉर टेक्नोलॉजी एण्ड मैनेजमेंट के एमबीए के छात्र-छात्राओं ने नई दिल्ली स्थित होटल ताज में आयोजित दो दिवसीय India Energy Summit (ऊर्जा संरक्षण कान्फ्रेंस) में सहभागिता की। ऊर्जा मंत्रालय भारत सरकार और इण्डियन चैम्बर आफ कॉमर्स के तत्वावधान में आयोजित तेरहवीं इण्डिया इनर्जी सम‍िट में विशेषज्ञ विद्वानों ने प्रतिभागियों और छात्र-छात्राओं को सम्बोधित करने के साथ ऊर्जा संरक्षण से जुड़े अपने-अपने रिसर्च पेपर भी प्रस्तुत किये।

कान्फ्रेंस का मुख्य विषय ऊर्जा संरक्षण और विभिन्न प्रकार के आविष्कारों के सहारे बिगड़ते पर्यावरण में बढ़ते प्रदूषण को रोकना था। कान्फ्रेंस में पारस्परिक ईंधन जैसे डीजल, पेट्रोल आदि के स्थान पर ई-ह्वीकल और इसी प्रकार के अन्य विकल्पों पर गम्भीर चर्चा हुई। कान्फ्रेंस में ऊर्जा संरक्षण, ऊर्जा हस्तान्तरण तथा सौर ऊर्जा, पवन चक्की, पवन बिजली संयंत्रों के आधुनिकीकरण पर भी वृहद चिन्तन हुआ।

कान्फ्रेंस में भारत के किसानों को सिंचाई हेतु विद्युत की आवश्यकता विषय पर भी विचार व्यक्त करते हुए विशेषज्ञों ने किसानों को सीधे विद्युत ग्रिड से जोड़कर उनको अनवरत विद्युत आपूर्ति किए जाने पर जोर दिया।

कान्फ्रेंस में इनर्जी ट्रांजेक्शन के तरीके, गैसबेस्ड इकोनोमी, ई-ह्वीकल फ्यूचर गेम चेंजर आफ इण्डिया स्टेट और प्रॉस्पेक्टिव, अपॉर्च्युनिटीज एण्ड चैलेंजेज तथा ऊर्जा संरक्षण उदय स्कीम आदि महत्वपूर्ण विषयों पर भी चर्चा की गयी।

आर.के. एज्यूकेशन हब के अध्यक्ष डा. रामकिशोर अग्रवाल ने उक्त महत्वपूर्ण कान्फ्रेंस से लौटे विद्यार्थियों से कहा कि आज के समय में पर्यावरण को सुरक्षित रखना बेहद जरूरी है। ई-ह्वीकल और सोलर ह्वीकल के प्रयोग से काफी हद तक समस्या का समाधान हो सकता है। उपाध्यक्ष पंकज अग्रवाल एवं चेयरमैन मनोज अग्रवाल ने छात्र-छात्राओं से कहा कि उन्होंने कान्फ्रेंस में जो भी जानकारी हासिल की है, उस पर चिन्तन करते हुए कुछ नया करने की कोशिश करें।

निदेशक डा. अमर कुमार सक्सेना ने बताया कि संस्थान में विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास के लिए हरसम्भव प्रयास किये जाते हैं। यहां अध्ययनरत सभी कोर्सेस के विद्यार्थियों को समय-समय पर वर्कशाप, गेस्ट लेक्चर, इंडस्ट्रियल विजिट एवं राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय कान्फ्रेंस आदि में सहभागिता के अवसर मुहैया कराए जाते हैं जिसका लाभ छात्र-छात्राओं को नेशनल-मल्टीनेशनल कम्पनियों में जाब हासिल करने में मिलता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »