CAA के समर्थन व हिंसाचार करने वालों के विरुद्ध खड़े होंं: रमेश शिंदे

नई द‍िल्ली। पिछले कुछ सप्ताहों से देशभर में बड़ी मात्रा में CAA के व‍िरुद्ध आगजनी एवं हिंसाचार किया जा रहा है, जिहादी षड्यंत्र रचा जा रहा है। इसका कारण क्या है, तो पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान के साथ अन्य देशों के मुसलमानों को भारत की नागरिकता नहीं मिलेगी।

इस पर भारत के मुसलमान क्रोधित क्यों हो रहे हैं? कश्मीरी हिन्दुओं को भारत में ही निर्वासित होना पड़ा तथा 29 वर्षों के पश्‍चात भी वे अपनी भूमि में लौट नहीं पाए हैं, इस पर कुछ न कहनेवाले, अभारतीय (विदेशी अवैध घुसपैठिए) मुसलमानों के लिए भारत में आगजनी क्यों कर रहे हैं ?

विश्‍वभर के मुसलमानों को आश्रय देने के लिए 56 इस्लामी देश हैं, परंतु हिन्दुओं को (हिन्दू, स‍िख, जैन, पारसी आदि को) आश्रय देने के लिए हिन्दुओं का एक भी देश नहीं है, इसलिए हिन्दुओं को आश्रय देना स्वाभाविक रूप से भारत का कर्तव्य ही है। अत: नागरिकता संशोधन अधिनियम लाकर भारत सरकार ने अत्यंत उचित और साहसी निर्णय लिया है। इस लिए देशभक्त – हिन्दुत्वनिष्ठ संगठन एवं नागरिक सरकार के समर्थन में और हिंसा करनेवालों के विरुद्ध खड़े हों, यह आव्हान हिन्दू जनजागृति समिति के राष्ट्रीय प्रवक्ता रमेश शिंदे ने करते हुए कहा क‍ि हिन्दू जनजागृति समिति पूरे देश में CAA के समर्थन में आंदोलन करनेवाली है।

राष्ट्रीय प्रवक्ता रमेश शिंदे ने मांग की क‍ि निर्वासित हिन्दुओं को भारत की नागरिकता मिले, यह मांग हिन्दू जनजागृति समिति वर्षों से कर रही थी । वर्ष 2012 से अखिल भारतीय हिन्दू राष्ट्र अधिवेशन के माध्यम से समिति यह विषय लगातार उठा रही थी । अब यह मांग पूर्ण हुई है और घुसपैठियों को देश से निकालने का उचित समय भी आ गया है । पूरे देश में जो हिंसा हो रही है, उसके पीछे कौन है, इसकी भी जांच करने की आवश्यकता है । जिन समाजकंटकों ने पुलिस पर पत्थर फेंके है, आगजनी की है, सार्वजनिक संपत्ति को हानि पहुंचाई है, उनके विरुद्ध तत्काल कठोर कारवाई होनी चाहिए।

-Legend News

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *