मांट सीट पर उलझा सपा और रालोद का गठबंधन, दोनों ने घोषित किए प्रत्‍याशी

सपा और रालोद का गठबंधन मथुरा की मांट विधानसभा में उलझता नजर आ रहा है। शुक्रवार को रालोद ने यहां से योगेश नौहवार को अपना प्रत्याशी बनाया तो एक दिन बाद ही सपा ने भी मांट से संजय लाठर के रूप में अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया। इससे मांट विधानसभा क्षेत्र में रालोद और सपा के कार्यकर्ता असमंजस की स्थिति में हैं।
जाट बाहुल्य मथुरा जिले में राष्ट्रीय लोक दल का राजनीतिक कद समाजवादी पार्टी से बड़ा रहा है। यही कारण है कि गठबंधन होने पर जनपद की चार ग्रामीण अंचल वाली सीटें रालोद को दी गईं, जबकि शहरी क्षेत्र से जुड़ी एकमात्र मथुरा सीट को सपा के खाते में रखा गया। तय गठबंधन के बाद भी दोनों दलों ने अपने-अपने प्रत्याशी भी घोषित कर दिए।
मांट से रालोद के प्रत्याशी हैं योगेश नौहवार
मांट विधानसभा से रालोद की टिकट योगेश नौहवार को मिली है लेकिन अगले ही दिन सपा ने भी मांट से डॉ. संजय लाठर को अपना प्रत्याशी बना दिया। इस तरह गठबंधन होने के बाद भी दोनों दलों ने मांट विधानसभा से टिकट जारी कर दिए। इससे गठबंधन कार्यकर्ता उलझन में आ गए हैं। हालांकि माना जा रहा है कि इन दोनों में से नामांकन सिर्फ एक ही करेगा।
अखिलेश यादव के करीबी हैं संजय लाठर
एमएलसी डॉ. संजय लाठर एक बार फिर मांट विधानसभा क्षेत्र से भाग्य आजमाने जा रहे हैं। इससे पहले वह 2012 में भी मांट से विधानसभा चुनाव लड़ चुके हैं। तब उन्हें समाजवादी पार्टी के टिकट पर 51 हजार वोट प्राप्त किए थे।
सपा मुखिया अखिलेश यादव के बेहद करीबी माने जाने वाले डॉ. संजय लाठर सपा युवजन सभा और सपा छात्र सभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे हैं। वर्तमान में एमएलसी के साथ समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता भी हैं। 2012 का चुनाव हारने के बाद भी मांट में उनकी सक्रियता रही। उन्होंने मथुरा में ही अपना ठिकाना भी बना लिया।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *