Sanskriti University में मेहंदी प्रतियोगिता में सोना-याशिका संयुक्त विजेता

संस्कृति विश्वविद्यालय में छात्राओं ने हाथों में आकर्षक कलाकृतियां उकेरीं

मथुरा। उच्च शिक्षा के क्षेत्र में ब्रज मण्डल की पहचान बन चुके संस्कृति विश्वविद्यालय में शनिवार सात अक्टूबर को मेहंदी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, जिसमें 25 छात्राओं ने उत्साहपूर्वक प्रतिभाग किया। छात्राओं ने हाथों पर मेहंदी से मनमोहक आकर्षक कलाकृतियों को उकेरीं। कुछ छात्राओं के हाथों में उकेरी गई मेहंदी को खूब सराहा गया। प्रतियोगिता का शुभारम्भ ओएसडी मीनाक्षी शर्मा और स्टूडेंट वेलफेयर के डीन धर्मेन्द्र दुबे ने किया।
मेहंदी प्रतियोगिता में सोना और याशिका वार्ष्णेय संयुक्त रूप से पहले स्थान पर रहीं। चिंकी मित्तल को दूसरा तथा निशा को तीसरा स्थान मिला। लक्ष्मी गोस्वामी और निहारिका सिंह के क्वार्डिनेशन में हुई इस प्रतियोगिता में कोमल भारद्वाज और दीक्षा सिंघल को सांत्वना पुरस्कार प्रदान किया गया।
संस्कृति विश्वविद्यालय के उप कुलाधिपति राजेश गुप्ता ने अपने संदेश में कहा कि मेहंदी प्रतियोगिता से छात्राओं की हस्तकला में निपुणता बढ़ती है। हमारा प्रयास संस्कृति विश्वविद्यालय में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं को पढ़ाई के साथ ही साथ अन्य सामाजिक गतिविधियों में भी पारंगत करना है। खुशी की बात है कि यहां के छात्र-छात्राएं शिक्षा के साथ ही खेल और सांस्कृतिक गतिविधियों में भी न केवल बढ़-चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं बल्कि सफलता भी हासिल कर रहे हैं।
कुलपति डा. देवेन्द्र पाठक ने कहा कि मेहंदी प्रतियोगिता का आयोजन छात्राओं के हस्त-कौशल का विकास करने के उद्देश्य से किया किया गया। ऐसी प्रतियोगिताओं से छात्राओं को अपना हुनर दिखाने का अवसर प्राप्त होता है। आज के इस दौर में युवाओं को हर क्षेत्र में निपुण होना चाहिए। डा. पाठक ने विजेता छात्राओं को बधाई देते हुए अन्य छात्राओं की हौसला-अफजाई की।