स्‍मार्टफोन Addiction से भी पाया जा सकता है छुटकारा

क्या आप भी उन लोगों में से हैं जो बेवजह अपना फोन स्क्रॉल करते रहते हैं या फिर किसी से बात करते वक्त भी फोन की तरफ ही देखते रहते हैं? क्या आप 2 मिनट के लिए भी अपने स्मार्टफोन से दूर नहीं रह पाते? क्या आप भी हर थोड़ी थोड़ी देर में अपने स्मार्टफोन पर फेसबुक, वॉट्सऐप और इंस्टाग्राम चेक करते रहते हैं? अगर इन सभी सवालों का जवाब हां है तो आपको भी दुनियाभर के लाखों लोगों की तरह स्मार्टफोन की लत लग चुकी है लेकिन परेशान होने की जरूरत नहीं, हम आपको बता रहे हैं इस Addiction से छुटकारा पाने का तरीका…
चाहकर भी फोन की लत नहीं छोड़ पा रहे 19 प्रतिशत लोग
एम्स की एक स्टडी में 14 प्रतिशत लोग मोबाइल Addiction के शिकार पाए गए, जिन्हें इलाज की जरूरत महसूस की गई। ये 14 प्रतिशत ऐसे लोग हैं, जो मोबाइल Addiction साबित करने वाले 3 से 6 लक्षण खुद कबूल कर रहे हैं। डॉक्टरों के अनुसार अगर किसी में Addiction के 3 लक्षण पाए जाते हैं तो उन्हें मोबाइल Addiction माना जाता है और सबसे ताज्जुब की बात यह है कि 19 प्रतिशत लोग चाहकर भी स्मार्टफोन की लत को छोड़ नहीं पा रहे हैं।
फोन Addiction की वजह से दूसरी चीजों से मोह हुआ भंग
एम्स की इस स्टडी में 24.8 प्रतिशत लोगों ने माना कि मोबाइल के बिना उन्हें खालीपन महसूस होता है। इसके बाद 21.4 प्रतिशत लोगों ने मोबाइल के यूज को जुनून करार दिया। 19.4 प्रतिशत ने माना कि वे मोबाइल की लत को छोड़ना चाहते हैं लेकिन इससे बाहर नहीं निकल पा रहे। यही नहीं 19.7 प्रतिशत ने इस सवाल पर सहमति जताई कि लत इतनी हो गई है कि दूसरी चीजों से मोह भंग हो गया है। यही नहीं 13 पर्सेंट ने यह भी माना कि वे मोबाइल की वजह से आपसी संबंध को इग्नोर करने लगे हैं।
बेवजह फोन स्क्रॉलिंग का ये है कारण
आखिर क्यों हम बेवजह फोन स्क्रॉल करते रहते हैं? तो इसका जवाब ये है कि पहले जब स्मार्टफोन और इंटरनेट नहीं था तब लोग खुद को और अपने ब्रेन को इंगेज रखने के लिए आउटडोर गेम्स खेलते थे, गॉसिपिंग करते थे, रीडिंग, राइटिंग, कलरिंग, सिंगिंग, डांसिंग, गार्डनिंग जैसी हॉबीज को टाइम देते थे जिससे हमारा ब्रेन हर वक्त इंगेज रहता था लेकिन अब स्मार्टफोन के दौर में बेवजह फोन स्क्रॉल करने की बुरी आदत लोगों को लग चुकी है। ऐसे में कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखकर आप इस बुरी आदत से छुटकारा पा सकते हैं।
ऐसे करें खुद पर काबू
– सबसे पहले खुद पर संयम बनाये रखें, खुद को गैजेट्स से जुड़ी गतिविधियों से दूर रखने की कोशिश करें।
– फोन से दूर रहने के लिए प्लानिंग करें। परिवार और दोस्तों के साथ समय बिताएं।
– जरूरी होने पर ही अपने फोन का इस्तेमाल करें। दिनभर ऑनलाइन रहने की बजाय सिर्फ काम के वक्त ही ऑनलाइन रहें।
– खुद को रिलैक्स रखने के लिए वॉक पर जाएं। ऐसे कामों में अपना मन लगाएं, जिसमें आपको खुशी मिलती हो।
इन 2 बातों से करें शुरुआत
सबसे पहले फोन को खुद से दूर रखें और दूसरा फोन चेक करने का शेड्यूल बनाएं।
– स्मार्टफोन को हर वक्त आंखों के सामने रखने की बजाए खुद से दूर दूसरे कमरे में, बैग में या ड्रॉअर में रख दें ताकि वह आपको नजर न आए। ऐसे में जब फोन आपके सामने नहीं होगा तो इस बात की संभावना अधिक होगी कि आप उसे बेवजह स्क्रॉल नहीं करेंगे।
– फोन पर सोशल मीडिया या दूसरी चीजें चेक करने का एक शेड्यूल बनाएं और अगर आप लिमिटेड टाइम से ज्यादा फोन यूज नहीं करते हैं तो खुद को इसके लिए रिवॉर्ड भी दें।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »