ममता बनर्जी के साथ धरना देने वाले अफसरों के मेडल छीने जाएंगे!

नई दिल्‍ली। ममता बनर्जी के साथ कोलकाता में धरना देने वाले अफसरों की पहचान कर ली गई है। MHA इनके खिलाफ ऐक्शन लेने के लिए कदम भी बढ़ा चुका है। पांचों अफसरों को मिले मेडल वापस लिए जा सकते हैं।
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ पिछले दिनों कोलकाता में धरना देने वाले अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही की प्रक्रिया शुरू हो गई है। धरने में शामिल अफसरों को मिले मेडल वापस लिए जा सकते हैं और उन्हें केंद्र में प्रतिनियुक्ति से भी रोका जा सकता है।
आपको बता दें कि गृह मंत्रालय ने पश्चिम बंगाल पुलिस के पांच अफसरों की पहचान भी कर ली है, जो CM के साथ धरने पर बैठे थे।
धरना स्थल पर पहुंचे अफसरों में DGP वीरेंद्र (1985 बैच के IPS), ADGP विनीत कुमार गोयल (IPS 1994 बैच), ADG लॉ ऐंड ऑर्डर अनुज शर्मा (1991 बैच) और सुप्रतिम दरकार (1997 बैच)- ऐडिशनल CP कोलकाता पुलिस के अलावा ज्ञानवंत सिंह (1993 बैच)- CP बिधाननगर कमिश्नरेट धरनास्थल पर वर्दी में पहुंचे थे।
MHA ने गुरुवार को कहा कि इन अफसरों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी, जिनमें उल्लेखनीय सेवाओं के लिए उन्हें दिए गए मेडल्स को वापस लेना शामिल है। मंत्रालय के सूत्रों का कहना है कि ये अधिकारी किसी भी केंद्रीय प्रतिनियुक्ति से प्रतिबंधित भी किए जा सकते हैं। कोलकाता के प्रकरण को देखते हुए गृह मंत्रालय सभी राज्यों को अडवाइजरी जारी करने पर भी विचार कर रहा है, जिसमें अधिकारियों से सर्विस रूल्स का सख्ती से पालन करने का निर्देश दिया जाएगा।
मंत्रालय की ओर से अफसरों को अपनी ड्यूटी के दौरान डेकोरम मेनटेन करने को कहा जाएगा। आपको बता दें कि केंद्र सरकार की ओर से पश्चिम बंगाल सरकार को पहले ही कोलकाता पुलिस कमिश्नर के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करने को लिखा जा चुका है। MHA ने पश्चिम बंगाल सरकार को 4 फरवरी को धरने में शामिल अधिकारियों के खिलाफ ऑल इंडिया सर्विसेज (कंडक्ट) रूल्स के तहत कार्रवाई करने को कहा है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »