‘पुलिस उत्पीड़न के कारण दुकान बंद है’, तस्वीर वायरल

आगरा। एक तरफ सोशल मीडिया पर गरीब पटरी दुकानदारों की मदद के तमाम अभियान चलाए जा रहे हैं तो वहीं दूसरी तरफ आगरा पुलिस इन पर कहर बरपा रही है। हालात यह हैं कि SSP तक से शिकायत हो जाने के बाद भी पुलिस आंशिक दिव्यांग पेंटर को दुकान नहीं खोलने दे रही है।
पीड़ित पेंटर ने दुकान के ऊपर ‘पुलिस के उत्पीड़न के कारण दुकान बंद है’ लिख दिया है जो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। थाना एत्माउद्दौला अंतर्गत फाउंड्री नगर चौकी क्षेत्र के पुलिस बूथ के निकट 45 साल के बच्चू सिंह करीब 20 साल से सड़क किनारे खोखा लगाकर पेंटर का काम कर रहे हैं।
थाने में रंगाई-पुताई करने से इंकार किया
चार बच्चों के पिता बच्चू सिंह की सीधे हाथ की उंगली काम के दौरान कट गई थी। इसके बाद से वह दुकान पर ही रहकर नंबर प्लेट,छोटे-मोटे बोर्ड वगैरह पेंट कर अपने परिवार का पेट पालते हैं। बच्चू सिंह का आरोप है कि पिछले महीने उनके पास चौकी से सिपाही आए और थाने में रंगाई-पुताई व लिखावट का काम करने को कहा।
पुलिसकर्मियों ने पेंटर से की अभद्रता
बच्चू ने अपनी मजबूरी बताते हुए बड़े काम करने में असमर्थता जताई। इसके बाद सिपाही के डी बाबू ने उन्हें अपशब्द और दुकान बंद कराने की धमकी दी। सिपाही उन्हें चौकी प्रभारी के पास ले गया तो वहां भी अभद्र व्यवहार किया गया। इसके बाद दुकान बंद रहने से परेशान बच्चू सिंह ने जिला मुख्यालय जाकर एसएसपी आगरा के कार्यालय पर लिखित शिकायत की। वहां से उन्हें आश्वासन मिला पर जमीनी स्तर पर कुछ नहीं हुआ।
एसएचओ ने बुलाया थाने
परेशान होकर उन्होंने अपनी दुकान पर लिख दिया ‘पुलिस के उत्पीड़न के कारण दुकान बंद है’। उक्त दुकान की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद थाना प्रभारी विनोद ने कहा है कि बच्चू सिंह से उन्होंने बात की है, वह दुकान पर कारीगर बिठाना चाहता है।
एसपी सिटी के आश्‍वासन के बाद खुली बच्‍चू की दुकान
इस बीच मामले के जोर पकड़ने पर थाना प्रभारी विनोद कुमार ने पीड़ित बच्चू सिंह से मुलाकात की। एसपी सिटी बोत्रे रोहन प्रमोद के आश्‍वासन के बाद बच्चू सिंह की दुकान आखिरकार खुल गई है। एसपी सिटी का कहना है कि पीड़ित से बातचीत के बाद मामले की जांच की जा रही है। जो भी दोषी होगा, उसके खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाएगी।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *