लिवर और किडनी पर असर डालते हैं चमकते हुए सेब

बाजार में सेब खरीदने जाएं और एकदम लाल और बेहद चमकते हुए सेब नजर आएं तो उसे बहुत अच्छा समझकर खरीदने की भूल न करें।
इन सेबों पर केमिकल वैक्स की मोटी परत चढ़ी होती है जो आपको कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी दे सकते हैं।
जिस तरह हर चमकती हुई चीज सोना नहीं होती उसी तरह हर चमकता सेब फायदेमंद नहीं होता। बाजार में बिकने वाले चमकदार सेबों पर केमिकल वैक्स की परत चढ़ाकर उन्हें बेचा जाता है और अगर आप इसकी सुंदरता के चक्कर में इसे अच्छा और साफ सुथरा मानकर खरीद रहे हैं तो यकीन मानिए आप अपनी सेहत से समझौता कर रहे हैं। सेब पर की जाने वाली यह केमिकल वैक्स की कोटिंग लिवर और किडनी पर असर डालती है जिससे कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी भी हो सकती है।
मंत्री को भी मिले वैक्स वाले सेब
इस तरह के केमिकल कोटिंग वाले सेब की बिक्री की रोकथाम के लिए कई बार अभियान चलाए जाते हैं पर कुछ दिन बाद बीमारी फैलाने वाले ये सेब फिर से बाजार में बिकने लगते हैं। हाल में इसकी चर्चा तब फिर शुरू हो गई जब केंद्रीय खाद्य और उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान ने बाजार से जो सेब मंगवाए थे उन पर केमिकल वाले वैक्स की मोटी परत चढ़ी मिली।
फल खराब होने से बचाने के लिए लगाते हैं वैक्स
फूड सेफ्टी ऐंड स्टैंडर्ड अथॉरिटी ऑफ इंडिया के डीओ पृथ्वी सिंह ने इस बारे में बताया कि वेजिटेबल वैक्स का फल सब्जियों पर प्रयोग किया जा सकता है। नियम के अनुसार नैचरल वैक्स व वेजिटेबल वैक्स का इस्तेमाल किया जा सकता है, लेकिन ज्यादातर दुकानदार केमिकल वैक्स का इस्तेमाल करते है, जो हमारी सेहत के लिए बेहद हानिकारक है। फल विक्रेताओं की मानें तो फलों को खराब होने से बचाने के लिए उस पर वैक्स कोटिंग का इस्तेमाल किया जाता है।
गर्म पानी से धोकर ही खाएं फल
सर्वोदय अस्पताल के विशेषज्ञ डॉ. सुनील राणा ने बताया कि फल और सब्जियों पर लगा वैक्स शरीर के लिए नुकसानदेह होता है जिससे पेट से जुड़ी बीमारियां, लिवर व किडनी कैंसर भी हो सकता है। कई बार लोग वैक्स लगे फल व सब्जियों का सेवन कर लेते हैं, जिसके बाद वैक्स शरीर के अंदर जाकर कई अंगों में जम जाता है लिहाजा फल व सब्जी का प्रयोग करने से पहले उन्हें करीब 15 से 20 मिनट तक गर्म पानी में रखें और फिर अच्छे से धोकर ही उनका खाने में इस्तेमाल करना चाहिए।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *