राजीव एकेडमी के 15 विद्यार्थियों का OM proptech में चयन

मथुरा। राजीव एकेडमी फॉर टेक्नोलॉजी एंड मैनेजमेंट के 15 एमबीए विद्यार्थियों का Om Proptack Pvt. Company में 4 लाख 80 हजार रु. से अधिक के उच्च पैकेज पर बिजनेस डेवलपमेंट एक्जीक्यूटिव के पद पर चयन हुआ है। OM proptech में चयनित छात्र-छात्राओं में अनीस सिंह, भावना अग्रवाल, अंजलि यादव, हर्षा चन्दानी, पारुल बंसल, तरूप शंकर, ब्रजिका, अंजू यादव, नरेश, प्रज्ञा, रजनी यादव, मनीष शर्मा, पवन कुमार, संजय कुमार, शुभम जोशी शामिल हैं। इन समस्त विद्यार्थियों का कार्यक्षेत्र नोएडा होगा।

कैम्पस प्लेसमेंट को आए कम्पनी पदाधिकारी ने छात्र-छात्राओं को बताया कि ओम प्रोपटैक प्रा.लि. कम्पनी की स्थापना 1998 में ग्रेटर नोएडा में हुई थी। मुख्य रूप से यह रियल एस्टेट की कम्पनी है जो ग्राहकों की जरूरतों के अनुरूप आवासीय फ्लैट्स निर्माण करती है। कम्पनी का कार्य बड़े-बड़े प्रोजेक्ट की योजना बनाना और उनका क्रियान्वयन करना है। कम्पनी पदाधिकारियों ने छात्र-छात्राओं को कम्पनी की जानकारी देने के बाद उनकी लिखित परीक्षा ली उसके बाद उनका आई.क्यू. टेस्ट लिया गया, जिसमें 15 विद्यार्थी कम्पनी के सभी मानकों पर खरे उतरे। छात्र-छात्राओं ने अपनी इस सफलता का श्रेय संस्थान की शैक्षणिक व्यवस्थाओं को दिया।

आर.के. एज्यूकेशन हब के अध्यक्ष डा. रामकिशोर अग्रवाल ने चयनित विद्यार्थियों को बधाई देते हुये कहा कि आज बेरोजगारी देश की सबसे बड़ी समस्या है, ऐसे समय में युवा पीढ़ी को सजगता से अध्ययन करने के साथ अपने कौशल को निखारना चाहिए। राजीव एकेडमी का उद्देश्य हर छात्र का सर्वांगीण मानसिक विकास करना है। डा. अग्रवाल ने कहा कि सफलता का मूलमंत्र कड़ी मेहनत है लिहाजा पढ़ाई हो या कार्यक्षेत्र हमें मेहनत से अपने लक्ष्य हासिल करने चाहिए।

उपाध्यक्ष पंकज अग्रवाल ने कहा कि जो छात्र जितनी अधिक मेहनत करेगा सफलता उसके उतना ही करीब होगी। चेयरमैन मनोज अग्रवाल ने कहा कि जीवन में परिश्रम और कठोर अनुशासन कदम-कदम पर हमारा मार्गदर्शन करता है, लिहाजा हमें अनुशासन में रहकर अपने लक्ष्य हासिल करने का प्रयास करना चाहिए। संस्थान के निदेशक डा. अमर कुमार सक्सेना ने चयनित विद्यार्थियों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि वे जहां भी रहें पूर्ण ईमानदारी से अपने कर्तव्य का निर्वहन करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »