निसर्ग के कारण मुंबई में गुरुवार दोपहर तक के लिए धारा-144 लागू

मुंबई। मौसम विभाग के अनुसार निसर्ग तूफ़ान की वजह से बुधवार को महाराष्ट्र के तटीय इलाक़ों में 120 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ़्तार तक हवाएं चल सकती हैं.
भारतीय मौसम विभाग ने एक ट्वीट के ज़रिये इसकी जानकारी दी है. मौसम विभाग ने यह जानकारी भी दी है कि निसर्ग तूफ़ान के केंद्र का व्यास क़रीब 65 किलोमीटर है.
रडार के ज़रिए मिल रही तस्वीरों के अनुसार इसकी चौड़ाई बीते कुछ घंटों में बढ़ी है.
यही वजह है कि हवाओं के बारे में जो अनुमान पहले लगाया गया था कि तूफ़ान की वजह से 85-95 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ़्तार से हवाएं चलेंगी, उनकी रफ़्तार अब बढ़ती नज़र आ रही है.
तूफ़ान के मद्देनज़र एनडीआरएफ़ की कई टीमें महाराष्ट्र के अलग-अलग इलाक़ों में तैनात की गई हैं.
मुबंई में बुधवार सुबह से ही बारिश हो रही है. हल्की बारिश के लिए मुंबई हमेशा ही तैयार रहती है लेकिन गुजरते वक्त के साथ-साथ जिस तरह से हवाएं रफ़्तार पकड़ रही हैं, जमा देने वाली ठंड का एहसास भी बढ़ रहा है.
हवा में नमी है और दोपहर के आने से पहले ही अंधेरे बढ़ता जा रहा है. मेरी खिड़की के बाहर तेज़ हवाएं पेड़ों को झकझोर रही हैं, मानो वे उन्हें गिरा ही देंगी. मुबंई शहर के सभी तट आम लोगों के लिए बंद कर दिए गए हैं और पुलिस की गश्ती जीप से लोगों को लाउडस्पीकर पर घरों में रहने के लिए हिदायत दे रहे हैं.
हम भी जहां तक मुमकिन हो सके, हर एहतियात बरत रहे हैं लेकिन इस बात की फिक्र भी सता रही है कि ये शहर पहले से कोरोना महामारी के संकट से जूझ रहा है. निसर्ग तूफ़ान अभी भी 200 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से मुंबई की तरफ़ बढ़ रहा है. माना जा रहा है कि शहर का अलीबाग़ इलाके से ये पहली बार टकराएगा.
मुबंई से समंदर किनारे चलना शुरू करें तो अलीबाग़ पहुंचने के लिए आपको 50 किलोमीटर का सफ़र तय करना होगा और सड़क से जाएं तो 100 किलोमीटर तय करने होंगे. खूबसूरत तटों के लिए अलीबाग़ को बहुत से लोग पसंद करते हैं. मौसम ठीक रहे तो फेरी सर्विस से अलीबाग़ आसानी से पहुंचा जा सकता है.
पुराने किलों, बंदरगाह और मराठा नेवी के एडमिरल कान्होजी आंग्रे की गद्दी के लिए मशहूर रहे अलीबाग़ लोगों का पसंदीदा वीकेंड डेस्टिनेशन भी रहा है. आप में से कई लोगों ने अलीबाग़ को बॉलीवुड की फिल्मों में देखा होगा.
निसर्ग तूफ़ान: मुंबई में धारा-144 लागू
मुंबई शहर की ओर बढ़ते निसर्ग तूफ़ान को ध्यान में रखते हुए मुंबई पुलिस ने शहर में धारा-144 लागू कर दी है जो बुधवार रात से गुरुवार दोपहर तक के लिए लगायी गई है.
पुलिस ने लोगों के समुद्र तट और पार्कों में जाने पर प्रतिबंध लगाया है.मौसम विभाग के ताज़ा अनुमान के मुताबिक़ निसर्ग तूफ़ान का सबसे अधिक असर मुंबई में बुधवार को दोपहर 12 बजे से शाम 7 बजे के बीच देखने को मिल सकता है.
सावधानी के तौर पर भारतीय रेलवे ने मुंबई से छूटने वाली कई ट्रेनों का टाइम बदला है.
साथ ही बुधवार को मुंबई पहुँच रहीं ट्रेनों को भी या तो रोका गया है या फिर उनके रूट बदल दिये गए हैं.
कोरोना संकट के बीच
बताया गया है कि एनडीआरएफ़ की आठ टीमें मुंबई में हैं, पाँच टीमें रायगढ़ में हैं, दो-दो टीमें पालघर, थाणे और रतनागिरी में भेजी गई हैं.
भारतीय वायु सेना के अनुसार एनडीआरएफ़ की पाँच टीमों को विजयवाड़ा से भारतीय वायु सेना के विमान में एयरलिफ़्ट करके मुंबई लाया गया है.
एनडीआरएफ़ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया है, “महाराष्ट्र और गुजरात के तटीय क्षेत्रों में रहने वाले क़रीब 60 फ़ीसद (लगभग एक लाख) लोग अन्य स्थानों पर चले गए हैं. बाकी बचे हुए लोगों को राहत शिविरों में रखा गया है. हम कोशिश कर रहे हैं कि इन शिविरों में सोशल डिस्टेन्सिंग के नियमों का पालन हो.”
भारतीय मौसम विभाग ने बुधवार सुबह 5 बजे जो बुलेटिन जारी किया था, उसके अनुसार तूफ़ान 11 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ़्तार से उत्तरी महाराष्ट्र की तरफ बढ़ रहा है.
बीती रात ढाई बजे तक यह तूफ़ान मुंबई से 250 किलोमीटर दक्षिण-पश्चिम में था.
समाचार एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार दो करोड़ की आबादी वाले मुंबई शहर में सड़कें खाली दिख रही हैं और कोविड-19 के प्रकोप से लड़ रहे इस शहर के लिए यह तूफ़ान एक बड़ी चुनौती बन कर सामने आया है.
रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक़ मुंबई के अस्थायी अस्पतालों में भर्ती 150 कोविड-19 के मरीज़ों को भी तूफ़ान से डर से शिफ़्ट किया गया है.
निसर्ग तूफ़ानः मुंबई आने-जाने वाली ट्रेनों का रेलवे ने बदला समय और रूट
कोरोना वायरस से जूझ रहे मुंबई को अब साइक्लोन निसर्ग के ख़तरे का सामना करना पड़ रहा है.
इसे देखते हुए मध्य रेलवे ने कई स्पेशल ट्रेनों का समय बदला है. ये ट्रेनें या तो आज मुंबई पहुंचने वाली थी या फिर आज वहां से रवाना होने वाली थी.
मध्य रेलवे के अनुसार गोरखपुर, दरभंगा, वाराणसी और कुछ दूसरी जगहों पर जाने वाली रेलगाड़ियों का समय बदला गया है.
पहले ये रेलगाड़ियां मुंबई से बुधवार सुबह रवाना होने वाली थीं.
रेलवे ने बताया कि जो स्पेशल ट्रेनें बुधवार को मुबंई पहुंचने वाली थीं, उनका रूट और समय बदला गया है.
भारतीय मौसम विभाग के अनुसार साइक्लोन निसर्ग महाराष्ट्र के उत्तरी तट की तरफ़ बढ़ रहा है.
-BBC

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *