सऊदी प्रिंस ने कबूला, मेरी निगरानी में हुई पत्रकार खशोगी की हत्या

रियाद। सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने आखिरकार पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या की जिम्मेदारी ले ली है।
अगले हफ्ते प्रसारित होने वाली PBS डॉक्युमेंट्री के मुताबिक सलमान ने कहा है कि पिछले साल सऊदी एजेंटों द्वारा की गई खशोगी की हत्या की वह जिम्मेदारी लेते हैं क्योंकि इसे उनकी निगरानी में ही अंजाम दिया गया।
यह कबूलनामा काफी चौंकाने वाला है क्योंकि अब तक सलमान ने सार्वजनिक तौर पर इस हत्याकांड के बारे में कुछ नहीं बोला है।
सऊदी कांसुलेट में की गई थी हत्या
पिछले साल इस्तांबुल स्थित सऊदी कांसुलेट के भीतर पत्रकार की हत्या कर दी गई थी। CIA और पश्चिमी देशों की सरकारों ने कहा था कि सऊदी क्राउन प्रिंस ने ही हत्या का आदेश दिया था लेकिन सऊदी के अधिकारी कहते आ रहे थे कि उनकी कोई भूमिका नहीं थी। आपको बता दें कि हत्या की खबर दुनियाभर में सुर्खियां बनी थी और वैश्विक स्तर पर सऊदी सरकार की आलोचना हुई थी। इस हत्याकांड के चलते क्राउन प्रिंस की छवि भी काफी खराब हुई। इसके बाद दुनिया के सबसे बड़े तेल निर्यातक देश के क्राउन प्रिंस ने अमेरिका या यूरोप का दौरा भी नहीं किया है।
1 अक्टूबर को आ रही डॉक्युमेंट्री में खुलेगा राज
अब खशोगी की हत्या के एक साल पूरे होने से पहले 1 अक्टूबर को प्रसारित होने जा रही डॉक्युमेंट्री के मुताबिक ‘क्राउन प्रिंस PBS के मार्टिन स्मिथ से कहते हैं, यह सब मेरी निगरानी में हुआ और मैं पूरी जिम्मेदारी लेता हूं।’
गौरतलब है कि हत्याकांड से साफ मुकरने के बाद सऊदी की ओर से मर्डर के लिए दूसरों को जिम्मेदार ठहराया गया था।
लोक अभियोजक ने कहा था कि तत्कालीन डेप्युटी इंटेलिजेंस चीफ ने खशोगी को स्वदेश लाने का आदेश दिया था लेकिन उनकी वापसी की चर्चा में सफलता न मिलने पर मुख्य वार्ताकार ने हत्या का आदेश दे दिया। खशोगी की पहुंच शाही घराने के भीतर तक थी लेकिन बाद में वह आलोचक बन गए थे। अभियोजक के मुताबिक पूर्व रॉयल अडवाइजर सौद अल-कतानी ने ऑपरेशन से पहले टीम को खशोगी की गतिविधियों पर नजर रखने को कहा था।
क्या कहते दिखेंगे क्राउन प्रिंस?
डॉक्युमेंट्री में स्मिथ ने क्राउन प्रिंस से पूछा कि क्या हत्यारों ने प्राइवेट गवर्नमेंट जेट्स का इस्तेमाल किया था। इस पर उन्होंने कहा, ‘मेरी बात मानने के लिए अधिकारी और मंत्री हैं और वे जिम्मेदार लोग हैं। उनके पास ऐसा करने की अथॉरिटी है।’ उधर, अमेरिका ने कहा है कि इस मामले की जांच में तेजी लाई जाए जबकि 11 सऊदी संदिग्धों की गुप्त सुनवाई काफी सुस्त है। संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में कहा गया था कि प्रिंस मोहम्मद और दूसरे वरिष्ठ सऊदी अधिकारियों की भी जांच होनी चाहिए।
खशोगी अमेरिकी अखबार वॉशिंगटन पोस्ट के स्तंभकार थे और आखिरीबार उन्हें 2 अक्टूबर 2018 को इस्तांबुल में सऊदी कांसुलेट में देखा गया था। बताया जाता है कि उनके शव के टुकड़े कर इमारत से बाहर भेजा गया और कुछ भी नहीं मिला।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *