संस्कृति रिदिम 20-20 हुआ संपन्‍न, अरुण-रूपाली बने मिस्टर व मिस

मथुरा। संस्कृत‍ि व‍िश्वव‍िद्यालय में पिछले आठ दिनों की लगातार प्रतियोगिताओं के बाद फाइनल में पहुंचे विभिन्न विभागों के 40 छात्र-छात्राओं में से स्कूल ऑफ एजूकेशन के प्रथम वर्ष के छात्र अरुण सिंह ने मिस्टर फ्रेशर और बीएससी बीएड की प्रथम वर्ष की छात्रा रूपाली ने मिस फ्रेशर के ताज पर कब्जा किया। विद्यार्थियों और फैकल्टी से भरे हाल में देर तक दोनों ताज पहनने वाले छात्र-छात्रा का तालियां बजाकर स्वागत हुआ। इस मौके पर विद्यार्थियों ने कार्यक्रम के बीच अपनी प्रस्तुतियां देकर उपस्थित का जमकर मनोरंजन किया है।

संस्कृत‍ि व‍िश्वव‍िद्यालय में संस्कृति रिदिम 20-20 का समापन, अरुण बने मिस्टर फ्रेशर व रूपाली मिस फ्रेशर
संस्कृत‍ि व‍िश्वव‍िद्यालय में संस्कृति रिदिम 20-20 का समापन, अरुण बने मिस्टर फ्रेशर व रूपाली मिस फ्रेशर

रिदिम 20-20 का फाइनल दो चरणों में हुआ। पहले चरण में बच्चों ने रैंप वाल्क के बाद अपना परिचय दिया। इस राउंड में डा. कीर्ति मिश्रा, लीषा युगल और डा. अनिल अहूजा निर्णायक मंडल में शामिल थे। बच्चों ने निर्णायक मंडल के समक्ष अपनी तैयारियों का जबर्दस्त प्रदर्शन किया साथ ही पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी रुचियां बताते हुए अपना परिचय दिया। दूसरा चरण सवालों का था। दूसरे चरण में निर्णायक मंडल में शामिल डा. सोनू शर्मा, डा. दुर्गेश वाधवा एवं डा. प्रीति अग्रवाल ने प्रतियोगी विद्यार्थियों से विभिन्न विषयों से जुड़े अनेक सवाल पूछे जिनका उत्तर छात्र-छात्राओं ने अपने बुद्धि और विवेक का इस्तेमाल कर दिया। दोनों चरणों के नंबरों के आधार पर छात्रों में अरुण सिंह और छात्राओं में रुपाली को विजेता घोषित किया गया। मिस फ्रेशर और मिस्टर फ्रेशर को ताज विश्वविद्यालय की विशेष कार्याधिकारी श्रीमती मीनाक्षी शर्मा ने पहनाया।

प्रतियोगी विद्यार्थियों में कुशाल भारद्वाज, अंशिका चौहाल, निमिषा स्वरूप, सुनील चौहान, सुजीत, मोहित बघेल, शालिनी शर्मा, लक्ष्मी, ओम चौहान, अंजली मिश्रा, दलबीर, प्रीति, विधि, राधिका अग्रवाल, हरिप्रिया, कृष्ण गोपाल, राधिका, हर्ष वर्धन, चौहल फौजदार, कसक, भानु, ऋषभ, रिया दास ने भाग लिया।

कार्यक्रम का शुभारंभ मां सरस्वती की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्ज्वलन से हुआ। विद्यार्थियों का स्वागत करते हुए स्कूल आफ इंजीनियरिंग के डीन सुरेश कासवान ( Suresh Kaswan) ने कहा कि आज का दिन आपकी मस्ती का दिन है। संस्कृति विश्वविद्यालय में आप सबका स्वागत है। विश्वविद्यालय ने आपके ज्ञान और कौशल के साथ आपके बहुमुखी विकास के लिए हर शिक्षा और सुविधा का बंदोबस्त किया हुआ है। उन्होंने कहा कि बस आप अपना टारगेट बना लें और उसे हासिल करने में जुट जाएं, बाकी हम सभी शिक्षक आपको आपका टारगेट हासिल करने में पूरी तरह से सहयोग देंगे। संस्कृति विवि के डिप्टी रजिस्ट्रार बीपी शर्मा ने कहा कि आप सभी सौभाग्यशाली हैं जो आपको यहां प्रवेश मिला है। संस्कृति विवि मूल्यों आधारित शिक्षा देने में विश्वास रखता है। आप यहां से अंतर्राष्ट्रीय स्तर की शिक्षा हासिल करेंगे। कार्यक्रम का संचालन डा. रिंका और डा. आदित्य ने किया।

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *