सचिन पायलट को मिली बगावत की सजा, उप मुख्‍यमंत्री के पद सहित प्रदेश कांग्रेस की अध्‍यक्षी भी छीनी

नई दिल्‍ली। बागी नेता सचिन पायलट पर कार्यवाही करते हुए कांग्रेस ने उन्‍हें सभी पदों से हटा दिया है। राजस्‍थान की अशोक गहलोत सरकार में उप-मुख्‍यमंत्री रहे पायलट से प्रदेश कांग्रेस अध्‍यक्ष का जिम्‍मा भी ले लिया गया है।
कांग्रेस के कई नेताओं ने पायलट को मनाने की बहुत कोशिश मगर वह नहीं माने। जिसके बाद कांग्रेस आलाकमान ने यह फैसला किया। दिल्‍ली से जयपुर गए रणदीप सुरजेवाला ने पायलट को हटाने का ऐलान किया। उनकी जगह पर ओबीसी नेता गोविंद सिंह डोटासरा को प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया गया है। सुरजेवाला ने यह ऐलान करते हुए पायलट को खूब कोसा। उन्‍होंने यह जता दिया कि पार्टी ने पायलट को मनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी।
सुरजेवाला ने कहा: हम मनाते रहे, लेकिन वो माने ही नहीं
मीडिया के सामने सुरजेवाला ने कहा, ‘सचिन पायलट और कांग्रेस के कुछ मंत्री और विधायक साथी भाजपा के षडयंत्र में उलझकर कांग्रेस की सरकार को गिराने की साजिश में शामिल हो गए।’
उन्‍होंने कहा कि “पिछले 72 घंटे से सोनिया गांधी, राहुल गांधी समेत कांग्रेस के आला नेतृत्व ने सचिन पायलट से, साथी मंत्रियों से, विधायकों से संपर्क करने की कोशिश की। कांग्रेस आलाकमान ने सचिन पायलट से खुद आधा दर्जन बात की। कांग्रेस कार्यसमिति के वरिष्‍ठ सदस्‍यों ने दर्जनों बार बात की। हमने अपील की कि पायलट और बाकी विधायकों के लिए दरवाजे खुले हैं, वापस आइए। मतभेद दूर करेंगे।”
समर्थित विधायकों के खिलाफ सख्त कार्यवाही का फैसला
राजस्थान कांग्रेस ने बागी हुए डिप्टी सीएम सचिन पायलट और उनके समर्थित विधायकों के खिलाफ सख्त कार्यवाही का फैसला ले लिया है। विधायक दल की बैठक में उनके खिलाफ एक और प्रस्ताव पारित किया गया है।
सोमवार को कांग्रेस की ओर से पार्टी विरोध गतिविधियों को लेकर प्रस्ताव पारित कर एक और जहां पायलट और उनके समर्थक विधायकों को चेतावनी दी गई वहीं उनकी मान-मनुहार की हर संभव कोशिश जारी रही। लेकिन सभी कोशिशें नाकाम साबित हुई, पायलट विधायक दल की दूसरी यानी मंगलवार सुबह बुलाई गई बैठक में शामिल नहीं हुए।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *