रूस ने कहा, विवाद सुलझाने के लिए भारत और चीन को किसी तीसरे पक्ष की जरूरत नहीं

मास्‍को। रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लवारोव ने कहा है कि भारत और चीन को किसी तीसरे पक्ष की जरूरत नहीं और दोनों देश अपने विवाद को खुद ही सुलझा लेंगे।
उन्‍होंने आशा जताई कि स्थिति शांतिपूर्ण रहेगी और दोनों ही देश विवादों के शांतिपूर्ण समाधान के लिए प्रतिबद्ध रहेंगे। इससे पहले तीनों देशों के विदेश मंत्रियों की वर्चुअल बैठक की शुरुआत में भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ने डॉक्‍टर कोटनिस की याद दिलाकर चीन को संदेश देने की कोशिश की थी।
रूसी विदेश मंत्री ने कहा, ‘हम आशा करते हैं कि स्थिति आगे शांतिपूर्ण बनी रहेगी और भारत और चीन विवादों के शांतिपूर्ण समाधान के प्रति प्रतिबद्ध रहेंगे।’
उन्‍होंने कहा, ‘मैं नहीं समझता हूं कि भारत और चीन को किसी बाहरी की जरूरत है। मैं यह भी नहीं समझता हूं कि उन्‍हें मदद किए जाने की जरूरत है, खासतौर पर तब जब देशों का मामला हो। वे खुद से इसका समाधान कर सकते हैं। इसका मतलब हालिया घटनाओं से है।’
विदेश मंत्री जयशंकर ने चीन को दिया सख्‍त संदेश
रूस के न्‍यौते पर हो रही इस त्रिपक्षीय बैठक के शुरुआत में भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ने डॉक्‍टर कोटनिस की याद दिलाकर चीन को संदेश देने की कोशिश की थी। उन्‍होंने यह भी कहा कि दुनिया की प्रमुख शक्तियों को हर तरीके से दूसरे के लिए उदाहरण बनना चाहिए और अंतर्राष्‍ट्रीय कानूनों का सम्‍मान करना चाहिए। साथ ही सहयोगी देशों के वैध हितों को मान्‍यता देनी चाहिए।
विदेश मंत्री जयशंकर ने कहा, ‘दुनिया की प्रमुख शक्तियों को हर तरीके से उदाहरण बनना चाहिए। लंबे समय तक चलने वाली वैश्विक व्‍यवस्‍था को बनाने के लिए अंतर्राष्‍ट्रीय कानूनों का सम्‍मान और सहयोगी देशों के वैध हितों को मान्‍यता, सभी पक्षों को समर्थन और साझा हितों को बढ़ावा देना ही एकमात्र रास्‍ता है।’ उन्‍होंने कहा कि डॉक्‍टर कोटनिस उन पांच भारतीय डॉक्‍टरों में शामिल थे जो दूसरे चीन-जापान युद्ध के दौरान वर्ष 1938 में चिकित्‍सा सहायता देने के लिए गए थे।
व‍िदेश मंत्री ने चीन को दिया बड़ा संदेश
माना जा रहा है कि जयशंकर ने कोटनिस की याद दिलाकर चीन को यह अहसास कराने की कोशिश की कि भारत हर संकट में चीन के साथ खड़ा रहा है और उसे भारत के वैध हितों को मान्‍यता देनी चाहिए। विदेश मंत्री का यह बयान ऐसे समय पर आया है जब भारत और चीन के बीच लद्दाख में तनाव चरम पर है। उधर, दोनों देशों के सैन्‍य अधिकारियों के बीच हुई बातचीत के बाद चीन के व‍िदेश मंत्रालय ने कहा है कि भारत और चीन बातचीत और सलाह के जरिए तनाव को कम करने पर सहमत हुए हैं।
दोनों के बीच तनाव कम करने में जुटा रूस
बता दें कि रूस भारत और चीन के बीच चरम पर पहुंचे तनाव को कम करने की कोशिशों में जुट गया है। मॉस्को पिछले दरवाजे से बातचीत के जरिए मुद्दे को सुलझाने की जुगत कर रहा है। हालांकि रूस के इन कोशिशों के पीछे कई अन्य अहम कारण भी हैं। हाल ही में चीन पर रूस ने खुफिया जानकारी एकत्र करने का आरोप लगाया है। ऐसे में रूस अपने पुराने दोस्त भारत को लेकर ज्यादा ऐक्टिव हो गया है। भारत और चीन दोनों से बेहतर रिश्तों का इस्तेमाल कर रूस इस तनाव को कम करवाना चाह रहा है। यही वजह है कि तनाव के बाद भी मॉस्को में विक्ट्री डे परेड के जरिए रूस भारत और चीन के साथ बैठक कर रहा है।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्‍थाई सदस्‍यता के दावे पर रूस ने कहा, हमें लगता है कि भारत इसका पूर्णकालिक सदस्य बनने का हकदार है और हम भारत की दावेदारी का पूरा समर्थन करेंगे।

-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *