SC की टिप्‍पणी के बाद खुलने लगे रास्‍ते, टिकैत ने कहा कि अब संसद पर धरना देंगे

किसान प्रदर्शनकारियों द्वारा रास्ता रोके जाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट में बृहस्पतिवार को हुई सुनवाई के कुछ देर बाद ही दिल्ली-यूपी के गाजीपुर बॉर्डर पर बैरिकेट हटाकर रास्ता खोल दिया गया है। भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत की अगुवाई में बृहस्पतिार दोपहर बाद किसानों ने खुद बैरिकेट हटाए। इस दौरान यूपी गेट पर राकेश टिकैत यह भी ऐलान किया है कि गाजीपुर बॉर्डर पर टेंट भी हटवा रहे हैं और बॉर्डर भी खाली कर रहे हैं। अब दिल्ली में संसद पर जाकर धरना देंगे। इस ऐलान के बाद यूपी और दिल्ली पुलिस मुस्तैद हो गई है।
दिल्ली पुलिस भी हटाए बैरिकेड
इस मौके पर मीडिया से बातचीत के दौरान भाकियू नेता राकेश टिकैत ने कहा कि गाजीपुर बॉर्डर पर हमने (किसानों) रास्ता बंद नहीं किया है, बल्कि दिल्ली पुलिस ने बैरिकेट लगाकर रास्ता बंद किया हुआ है। हम अपने टेंट हटा रहे हैं। ऐसे में अगर दिल्ली पुलिस भी बैरिकेट हटा ले तो गाड़ियां आराम से यहां से दिल्ली जा सकती हैं।
लोगों की परेशानी को देखते हुए खोला रास्ता
इस पर राकेश टिकैत ने सफाई में कहा कि रास्ता हमने नहीं दिल्ली पुलिस ने रोक रखा है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि रास्ता रोकना गलत है और हम उनका सम्मान करते हैं इसलिए अपना रास्ता खोल रहे हैं ताकि लोगों को दिक्कत न हो। हमारी अपील है कि दिल्ली पुलिस रास्ता खोले।
पूरी तरह से नहीं हटाए टेंट
मिली जानकारी के मुताबिक राकेश टिकैत टेंट हटाने की बात कह तो रहे हैं लेकिन सड़क के एक किनारे को ही खाली करवाया जा रहा है। दूसरे किनारे पर टेंट लगे हैं जिनसे आधी से ज्यादा सड़क घिरी हुई है। कुल मिलाकर किसानों द्वारा अपनी तरफ से बैरिकेट और टेंट हटाए जाने के बाद भी वाहन चालकों को कोई राहत नहीं मिलने वाली है क्योंकि दूसरी तरफ का रास्ता तो बंद ही रहेगा।
गौरतलब है कि तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों को पूरी तरह से वापस लेने की मांग को लेकर दिल्ली-एनसीआर के चारों बॉर्डर (सिंघु, टीकरी, शाहजहांपुर और गाजीपुर) पर 27 नवंबर से ही किसान प्रदर्शनकारी जमा हैं। किसानों का कहना है कि जब तक तीनों कानून वापस नहीं ले लिए जाते तब तक प्रदर्शन जारी रहेगा।
अफवाहों पर न दें ध्यान, जारी रहेगा गाजीपुर बॉर्डर पर आंदोलन: मलिक
दिल्ली-यूपी के गाजीपुर बॉर्डर पर रास्ता खोलने के मामले में नया ट्विस्ट आ गया है। राकेश टिकैत के गाजीपुर बॉर्डर खोलने और संसद पर धरना देने के बयान के बाद भाकियू के मीडिया प्रभारी धर्मेंद्र मलिक ने हटकर बात कही है। उन्होंने कहा कि कुछ समय से यह अफवाह फैलाई जा रही हैं कि गाजीपुर बॉर्डर खाली किया जा रहा है। यह पूर्णतया निराधार है। उन्होंने कहा कि हम यह दिखा रहे हैं कि रास्ता किसानों ने नहीं, बल्कि दिल्ली पुलिस ने बंद किया है। उन्होंने अपने बयान में कहा कि गाजीपुर बॉर्डर पर आंदोलन जारी रहेगा। आंदोलन से हटने का कोई निर्णय नहीं लिया गया है।
-एजेंसियां
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *