अभी मैं अखिलेश यादव के संदेश का इंतज़ार कर रहा हूं: चंद्रशेखर

भीम आर्मी के नेता और आज़ाद समाज पार्टी के संस्थापक चंद्रशेखर ने समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन की संभावनाओं को बरकरार रखते हुए कहा है, “अखिलेश को मैंने बड़ा भाई मान लिया है, यदि वो मुझे छोटा भाई नहीं मानेंगे तो मैं अपना निर्णय लूंगा. अभी मैं उनके संदेश का इंतज़ार कर रहा हूं.”
बीबीसी से बातचीत में चंद्रशेखर आज़ाद ने कहा, “मैंने ये कह दिया है कि ये लड़ाई अकेले चंद्रशेखर की नहीं है. ये दलितों, वंचितों, शोषितों, मुसलमानों, बौद्धों, अल्पसंख्यकों हर वर्ग के अधिकार की लड़ाई है. यदि अखिलेश ये कहेंगे कि यूपी में बीजेपी को रोकने के लिए मुझे चंद्रशेखर की ज़रूरत है तो मैं बिना एक सीट लिए भी उनके साथ जाने को तैयार हूं.”
वहीं समाजवादी पार्टी का भी कहना है कि अभी चंद्रशेखर से गठबंधन के रास्ते बंद नहीं हुए हैं. क्या चंद्रशेखर के साथ बिगड़ी बात बन सकती है इस सवाल पर पार्टी प्रवक्ता मनोज पांडे ने कहा, “राजनीति में कभी संभावनाएं ख़त्म नहीं होती हैं ना ही स्थायी रूप से कोई दरवाज़ा बंद होता है. राजनीति में बातचीत चलती रहती है.”
चंद्रशेखर ने शनिवार को एक प्रेसवार्ता करके आरोप लगाया था कि अखिलेश यादव ने ‘दलितों को सम्मान’ नहीं दिया और आज़ाद समाज पार्टी का गठबंधन नहीं हुआ.
इसके जवाब में अखिलेश ने एक प्रेसवार्ता में कहा, ”चंद्रशेखर से बात पक्की हो गई थी. हम उन्हें गठबंधन में दो सीटें देने के लिए तैयार थे. लेकिन फिर उनके पास किसी का फ़ोन आया और उन्होंने कहा कि वो चुनाव नहीं लड़ना चाहते हैं और उठकर चले गए.”
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *