IIT Mandi में शोध, सिर्फ एक टेस्ट से होगी कैंसर की पहचान

नई दिल्‍ली। IIT Mandi में एक शोध हुआ है जिसमें वैज्ञानिकों का दावा है कि सिर्फ एक टेस्ट से कैंसर की पहचान हो जाएगी। इसे कैंसर रोगियों की पहचान और इससे जुड़ी बाधाऐं आसान होने से राहत अवश्‍य मिलेगी। अब एक ही टेस्ट में कैंसर की पता लगाया जा सकेगा।

IIT Mandi के शोधकर्ताओं ने कोशिकाओं के अंदर पानी का वितरण दिखाने के लिए फ्लूरोसेंट नैनो डॉट्स का आविष्कार किया

शोध में खुलासा हुआ है कि सामान्य कोशिकाओं की तुलना में कैंसर सैल के अंदर पानी का वितरण भिन्न होता है। इस शोध से कैंसर सैल का पता लगाने का आसान विकल्प दिया जा सकता है। शोधकर्ता टीम के प्रभारी एसोसिएट प्रोफेसर, स्कूल ऑफ बेसिक साइंसेज, आईआईटी मंडी डॉ. चयन के नंदी ने कहा कि इसे हाल ही में जर्नल ऑफ फिजिकल केमिस्ट्री में प्रकाशित किया गया।

शोधकर्ताओं के अनुसार फ्लूरोसेंट नैनोडॉट मैटीरियल नैनोमीटर के स्केल का है। यानी इंसान के बाल की मोटाई से 8,000,00 गुना छोटा है। नैनोडॉट कार्बन का बना है और इसमें हाइड्रोफिलिक (पानी से आकर्षण) और हाइड्रोफोबिक (पानी से विकर्षण) दोनों हिस्से हैं।

जैसा कि साबुन के अणु में होता है। एक ही नैनोडॉट के अंदर पानी के आकर्षक और विकर्षक हिस्से होने की वजह से ये खुद को पानी के हाइड्रोजन बंधन की तरह व्यवस्थित कर लेते हैं।

कोशिकाओं में नैनोडॉट डालकर यह दिखाया कि हाइड्रोजन बंधन और पानी के कंटेंट (मात्रा) कोशिका के अलग-अलग हिस्सों में भिन्न हैं। बड़ी बात यह कि सामान्य कोशिकाओं की तुलना में कैंसर कोशिकाओं में हाइड्रोजन बंधन नेटवर्क भिन्न दिखा। उनके इस कार्य से पहली बार यह प्रमाण मिला कि सामान्य कोशिकाओं की तुलना में कैंसर सेल्स के न्युक्लीआई में अधिक मात्रा में पानी स्वतंत्र रूप में पाया जाता है।

शोधकर्ताओं के अनुसार इंसान का शरीर खरबों कोशिकाओं का बना है, जिनके अपने-अपने काम निर्धारित हैं। कोशिकाओं के कई घटक होते हैं। इनमें एक में सर्वाधिक 80 प्रतिशत पानी है। एक-दूसरे के नजदीक पानी के अणु आपस में कमजोर बंधन बलों से जुड़े होते हैं, जिन्हें हाइड्रोजन बंधन कहते हैं। हाइड्रोजन बंधन गतिमान होते हैं और पानी के इसके परिवेश से प्रतिक्रियाओं के अनुसार बदलते हैं।

-एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *