रानी मुखर्जी ने आदित्य चोपड़ा को बताया अपनी जिंदगी का ‘शिव’

मुंबई। रानी मुखर्जी और आदित्य चोपड़ा ऐसे कपल हैं, जो स्टार स्टेटस इंजॉय करने के बाद भी अपनी पर्सनल लाइफ को किसी आम जोड़े की तरह ही प्राइवेट रखना ही पसंद करते हैं। हालांकि, इनकी लव स्टोरी की शुरुआत जब हुई थी, तो उसे गॉसिप वर्ल्ड का हिस्सा बना लिया गया था।
आदित्य पहले से शादीशुदा थे और बाद में अपनी पत्नी से अलग हो गए थे। ऐसे में रानी से उनकी बढ़ती दोस्ती को लोगों ने इस तलाक के लिए जिम्मेदार ठहराया और इस बारे में बातें करना जारी रखी। हालांकि एक्ट्रेस ने हमेशा गरिमा के साथ इस पूरी स्थिति का सामना किया और कभी ऐसा कुछ नहीं कहा, जिसका लोग फायदा उठा सकें। एक इंटरव्यू में जरूर उन्होंने इस बारे में अपने विचार रखे थे और अपना फ्रंट क्लीयर किया था।
शादीशुदा आदित्य से नहीं की डेटिंग
आदित्य चोपड़ा हमेशा से ऐसे शख्स रहे हैं, जो बिहाइन्ड द कैमरा और लाइमलाइट से दूर रहना पसंद करते हैं। ऐसे में जब उनके पत्नी से अलग होने की रिपोर्ट्स आईं तो सबके लिए ये शॉक बनकर आया क्योंकि किसी को भनक तक नहीं थी कि इस फिल्ममेकर की मैरिड लाइफ ठीक नहीं चल रही है। वहीं इसके बाद जब उनका रानी के साथ नाम जुड़ा तो लोगों ने तरह-तरह के अंदाजे लगाना शुरू कर दिए।
इस पर रानी मुखर्जी ने बहुत बाद में जाकर चुप्पी तोड़ी थी और जाहिर किया था कि उन्होंने किसी का भी घर नहीं तोड़ा है। एक्ट्रेस ने कहा था कि ‘अफवाहों से उलट मैंने आदित्य को उनके तलाक के बाद डेट करना शुरू किया था। तब वे मेरे प्रोड्यूसर भी नहीं थे। मैं उनके साथ तब रिश्ते में आई, जब आदित्य के साथ काम नहीं कर रही थी क्योंकि अपने प्रोड्यूसर को डेट करना मेरी पसंद नहीं।’
तलाकशुदा पर्सन के साथ रिश्ता नहीं होता आसान
इंडियन सोसायटी में रिश्तों को लेकर भले ही सोच बदल रही हो, लेकिन किसी तलाकशुदा व्यक्ति के साथ रिलेशनशिप में आना, अभी भी खुलकर स्वीकार नहीं किया जाता है। इस केस में सबसे ज्यादा महिलाओं को नकारात्मकता का सामना करना पड़ता है। चाहे महिला खुद तलाकशुदा हो या फिर किसी डिवॉर्स्ड पर्सन के साथ वह रिश्ते में आए, सवाल हमेशा उसी पर उठाए जाते हैं। हालांकि जिस तरह से रानी ने डिग्निटी और खामोशी के साथ पूरी सिचुएशन को हैंडल किया व लोग क्या सोचते हैं इसका असर नहीं पड़ने दिया, वही अप्रोच सभी महिलाओं को अपनाना चाहिए।
डेट के लिए परमीशन
रानी और आदित्य के बीच का रिश्ता दोस्ती से शुरू हुआ और फिर उन्हें अहसास हुआ कि उन्हें एक-दूसरे से प्यार है। एक्ट्रेस ने शेयर किया था कि उन्हें डेट पर ले जाने से पहले आदित्य ने उनके पेरैंट्स से परमीशन ली थी। रानी की फैमिली इससे खुश थी और यही रिएक्शन फिल्ममेकर की मॉम का भी था।
रिश्ते में जब पेरैंट्स को इन्वॉल्व किया जाता है, तो वह दिखाता है कि कपल एक-दूसरे को लेकर कितना सहज है। ये माता-पिता को भी अपने बच्चे के साथी को समझने का मौका देता है, जो आगे चलकर इन-लॉज के साथ बेहतर रिश्ता बनाने में मदद करता है।
आदित्य की इस खूबी को पसंद करती हैं रानी
रानी ने बताया था कि उनकी और आदित्य की सोच एक जैसी है। दोनों ही अपने पेरैंट्स का सम्मान और प्यार करते हैं। साथ ही में उन्होंने ये भी बताया था कि वह बिल्कुल भी नेगेटिव पर्सन नहीं हैं और किसी को नुकसान नहीं पहुंचा सकते। रानी ने ये भी कन्फेस किया था कि आदित्य के साथ वह बतौर व्यक्ति काफी बेहतर बनी हैं और रिश्ते में आने के बाद उन दोनों को अपने आप को ज्यादा समझने का मौका मिला, जो रिश्ते के लिए जरूरी है।
अगर आपको ऐसा साथी मिले, जो आपको अपना बेहतर वर्जन बनने में मदद करे तो इससे अच्छा कुछ नहीं हो सकता। ऐसा पार्टनर पाने वाले लोग न सिर्फ अपनी पर्सनल लाइफ में ज्यादा खुश रहते हैं बल्कि अगर वे वर्किंग हैं तो उस फ्रंट पर भी वे ज्यादा बेहतर परफॉर्म करते हैं। वहीं अगर साथी इससे उलट मिल जाए तो करियर के साथ निजी जीवन भी ढलान पर आ जाता है।
आदित्य को बताया अपनी जिंदगी का ‘शिव’
रानी मुखर्जी ने अपने पति को अपनी जिंदगी का शिव बताया था। उन्होंने कहा था कि जिस तरह से भगवान शिव शांत, धैर्यवान और सिर्फ पार्वती के प्रति प्रेम रखते थे, उसी तरह आदित्य उनके लिए हैं। एक्ट्रेस ने कहा था कि वह उनसे बहुत प्यार करते हैं और हमेशा कम्पोज़्ड रहते हैं।
रिश्ते में चीटिंग का दुख न जाने कितने लोगों ने सहा है। ऐसे में अगर ऐसा जीवनसाथी मिले, जो सिर्फ आपको प्यार करे और धोखे के बारे में सोचे तक ना, तो रिश्ते में आने वाली सारी मुश्किलें भी छोटी पड़ जाएंगी क्योंकि जब दोनों का मजबूती से साथ बना रहेगा, तो वे हर मुश्किल को मिलकर सुलझाएंगे और अपनी हैपी स्टोरी खुद लिख सकेंगे।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *