10 दिसंबर को खुलेगा राकेश झुनझुनवाला समर्थित मेट्रो ब्रांड्स का IPO

राकेश झुनझुनवाला समर्थित मेट्रो ब्रांड्स लि. का आरंभिक सार्वजनिक निर्गम IPO 10 दिसंबर को खुलेगा। फुटवियर क्षेत्र की रिटेलर मेट्रो ब्रांड्स आईपीओ के तहत 295 करोड़ रुपये के नए शेयर जारी करेगी। इसके अलावा प्रवर्तक तथा अन्य शेयरधारक 2.14 करोड़ इक्विटी शेयरों की बिक्री पेशकश (ओएफएस) लाएंगे।
आईपीओ दस्तावेजों के अनुसार कंपनी का निर्गम 14 दिसंबर को बंद होगा। आईपीओ के जरिये कंपनी के प्रवर्तक अपनी करीब 10 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचेंगे। आईपीओ के बाद कंपनी में प्रवर्तक और प्रवर्तक समूह की हिस्सेदारी मौजूदा के 85 प्रतिशत से घटकर 75 प्रतिशत रह जाएगी।
किन ब्रांड में होगा निवेश?
आईपीओ से प्राप्त राशि का इस्तेमाल कंपनी ‘मेट्रो’, ‘मोची’, ‘वॉकवे’ और ‘क्रॉक्स’ ब्रांड के नए स्टोर खोलने तथा सामान्य कॉरपोरेट कामकाज के लिए करेगी। फिलहाल देश के 134 शहरों में कंपनी के 586 स्टोर हैं। इनमें से 211 स्टोर पिछले तीन साल में खोले गए हैं।
10 आईपीओ में मेट्रो ब्रांड्स भी
मेट्रो ब्रांड्स को दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला ने भी सपोर्ट किया है। नवंबर के आखिरी हफ्ते में मेट्रो ब्रांड्स सहित 10 कंपनियों को आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) के माध्यम से धन जुटाने की मंजूरी दे दी गई है। मेट्रो ब्रांड्स में राकेश झुनझुनवाला की करीब 15 फ़ीसदी हिस्सेदारी है।
मेट्रो का कारोबार
मेट्रो ब्रांड्स ने 1955 में मुंबई में मेट्रो ब्रांड के तहत अपना पहला स्टोर खोला था। तब से पुरुषों, महिलाओं, यूनिसेक्स और बच्चों सहित पूरे परिवार के लिए ब्रांडेड प्रोडक्ट्स की एक बड़ी रिटेल चेन खड़ी करके मेट्रो ब्रांड्स जूते की जरूरतों के लिए वन-स्टॉप शॉप के रूप में विकसित हुआ है।
कुल आमदनी
सितंबर तिमाही में मेट्रो ब्रांड्स की कुल आमदनी 490 करोड़ रुपये रही थी। 1 साल पहले की इसी अवधि में मेट्रो ब्रांड्स को 228 करोड़ रुपये की कुल आमदनी हुई थी। सितंबर तिमाही में मेट्रो ब्रांड्स का नेट प्रॉफिट 43 करोड़ रुपये रहा है। पिछले साल की इसी तिमाही में कंपनी को ₹41 करोड़ का नुकसान हुआ था।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *