राज्यसभा से भी SPG अमेंडमेंट बिल को मंजूरी, कांग्रेस ने किया वॉकआउट

नई दिल्‍ली। लोकसभा के बाद राज्यसभा ने भी SPG अमेंडमेंट बिल को मंजूरी दे दी है। इसका मतलब है कि अब SPG सुरक्षा सिर्फ प्रधानमंत्री और उनके करीबी परिवार को मिलेगी, पूर्व प्रधानमंत्रियों या उनके परिवार वालों को नहीं। कांग्रेस सदस्यों के वॉकआउट के बीच मंगलवार को इस बिल ने राज्यसभा की बाधा भी पार कर ली। बिल पर चर्चा का जवाब देते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि यह बिल एक परिवार विशेष के लिए नहीं लाया गया है। गांधी परिवार की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ के कांग्रेस के आरोपों पर शाह ने कहा कि सुरक्षा हटाई नहीं गई है, बल्कि बदली गई है। उन्होंने कहा कि SPG सुरक्षा किसी परिवार के स्टेटस सिंबल के लिए नहीं हो सकती। इस दौरान उन्होंने केरल में बीजेपी और आरएसएस कार्यकर्ताओं की राजनीतिक हत्या को लेकर लेफ्ट पर भी तगड़ा हमला बोला।
‘बिल गांधी परिवार को ध्यान में रखकर लाने का आरोप गलत’
गृह मंत्री अमित शाह ने कहा, ‘बिल पढ़ने के बाद भी सदस्यों में कुछ भ्रांति है, जनता में भी है, मीडिया में भी है। कुछ लोग कह रहे हैं कि इस बिल को एक परिवार को ध्यान में रखकर लाया गया है। गांधी परिवार के 3 सदस्यों को ध्यान में रखकर लाया गया है। ऐसा नहीं है। इस बिल और गांधी परिवार की SPG सुरक्षा के बीच कोई संबंध नहीं है।’
‘पहले के चारों बदलाव एक परिवार को ध्यान में रखकर हुए’
गांधी परिवार पर स्टेटस सिंबल के लिए SPG सुरक्षा रखने का आरोप लगाते हुए अमित शाह ने कहा, ‘SPG एक्ट में 4 बार परिवर्तन हुआ। यह पांचवां है। 5वां परिवर्तन किसी परिवार को ध्यान में रखकर नहीं किया गया है। उससे पहले ही समीक्षा करके उन्हें सीआरपीएफ जेड प्लस सुरक्षा दी गई जो एएसएल और एंबुलेंस के साथ है। यह 24 घंटे है। यह देश में किसी व्यक्ति को दी गई सर्वोच्च सुरक्षा है। असल में पिछले चारों परिवर्तन एक परिवार को ध्यान में रखकर किए गए थे।’
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *