चालू वित्त वर्ष में रेलवे को 35000 करोड़ रुपए के नुकसान का अनुमान

नई दिल्‍ली। रेलवे का अनुमान है कि पैसेंजर ट्रेनों का संचालन बंद होने के कारण चालू वित्त वर्ष में उसे 35000 करोड़ का भारी नुकसान हो सकता है। वर्तमान में 230 स्पेशल ट्रेनों का संचालन किया जा रहा है। इन ट्रेनों में ऑक्युपेंसी 75 फीसदी के करीब है। रेलवे बोर्ड के चेयरमैन विनोद कुमार ने कहा कि मालगाड़ी से होने वाली कमाई से रेलवे का काम चल रहा है।
पिछले साल पैसेंजर ट्रेनों से कमाई 50 हजार करोड़
विनोद कुमार ने कहा कि पिछले वित्त वर्ष में रेलवे की पैसेंजर ट्रेनों से कमाई करीब 50 हजार करोड़ रुपये थी। इस साल क्या होगा इसका अंदाजा लगाना मुश्किल है। उन्होंने कहा कि स्टेट लेवल और लोकल लेवल पर लगाए जा रहे लॉकडाउन के कारण स्थिति ज्यादा नाजुक है।
मालगाड़ी सेक्शन में फायदा
दूसरी तरफ रेलवे को मालगाड़ी सेगमेंट में फायदा होता दिख रहा है। यादव ने कहा कि पिछले साल के मुकाबले इस सेगमेंट का रेवेन्यू 50 फीसदी ज्यादा रहने का अनुमान है। उन्होंने कहा कि अगर हमें नुकसान से बचना है तो पैसेंजर सेक्शन से होने वाले नुकसान को इससे पूरा करना होगा। इस साल पैसेंजर सेक्शन का रेवेन्यू पिछले साल के मुकाबले 10-15 फीसदी तक होगा। 30-35 हजार करोड़ का नुकसान मालगाड़ी से होने वाली कमाई के साथ अजस्ट करना होगा।
अनुमान को घटाया
बजट में रेलवे ने अनुमान लगाया था कि मालगाड़ी से उसकी कमाई 1.47 लाख करोड़ होगी और पैसेंजर ट्रेन से उसकी कमाई 61 हजार करोड़ रुपये होगी। हालांकि लॉकडाउन के कारण रेलवे ने अपने अनुमान को अपडेट किया है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *