राहुल राजपूत मर्डर केस: लड़की घर जाने को तैयार नहीं, गवाही देने के लिए हामी भरी

नई दिल्‍ली। आदर्श नगर में 18 साल के राहुल राजपूत की हत्‍या के मामले में उसकी ‘प्रेमिका’ गवाही देगी। 21 साल की युवती ने अपने रिश्‍तेदारों के खिलाफ गवाही देने पर हामी भरी है। वह अपने घर नहीं जाना चाहती क्‍योंकि उसे डर है कि घर वाले उसे भी मार देंगे।
पुलिस ने शनिवार को उसे एक अज्ञात शेल्‍टर होम में शिफ्ट किया है और सुरक्षा भी दी है। बुधवार को जब राहुल को पीटा जा रहा था तो यह लड़की बेबस होकर सबकुछ देख रही थी। सीसीटीवी फुटेज में लड़की राहुल के घर के बाहर खड़ी दिख रही है। इसके बाद राहुल बाहर आता है और उसके पीछे चल देता है। एक और फुटेज में राहुल और वो दिख रहे हैं जिसमें आरोपी उन्‍हें दूसरी गली में ले जा रहे हैं।
परिवार को डर था, राहुल के साथ कुछ ऐसा होगा
पुलिस ने जो एफआईआर दर्ज की है, उसके मुता‍बिक राहुल और इस लड़की में प्रेम संबंध थे। परिवार को इससे दिक्‍कत थी क्‍योंकि धर्म अलग था। एफआईआर के मुताबिक राहुल के परिवार को दो महीने पहले ही इस रिश्‍ते के बारे में पता चला था। राहुल के चाचा धर्मपाल के हवाले से एफआईआर में लिखा है, “वह बीए सेकेंड ईयर में पढ़ रहा था। करीब दो महीने पहले, हमें पता चला कि वह जहांगीरपुरी में रहने वाली किसी लड़की से प्‍यार करता है। लड़की का परिवार राहुल से नाराज था और दोनों को मिलने नहीं देना चाहता था। हमें उसकी सुरक्षा की चिंता थी।” धर्मपाल ही वो शख्‍स थे जिन्‍हें राहुल के एक दोस्‍त ने उसकी पिटाई की जानकारी दी थी।
किसी और बच्‍चे के साथ ऐसा न हो: राहुल के पिता
राहुल के पिता संजय टैक्‍सी चलाकर गुजारा करते हैं। मूलचंद कॉलोनी के अपने घर में उनकी हालत बेहद खराब थी। उन्‍होंने बताया कि वह घर पर नहीं थे जब यह सब-कुछ हुआ। संजय ने कहा, “जब हम उसे क्लीनिक से घर लेकर आए तो उसने नहीं बताया कि उसकी पिटाई हुई है या असल में क्‍या हुआ है। हमें लगा कि कोई छोटी-मोटी लड़ाई हुई होगी या किसी ने थप्‍पड़ मार दिया होगा। वह लेटा रहा। रात में उसकी हालत बिगड़ गई। अस्‍पताल लेकर गए जहां उसने दम तोड़ दिया। मैं चाहता हूं कि घटना में जो भी शामिल थे, सब के सब सलाखों के पीछे हों। मैं बस यही प्रार्थना करता हूं कि किसी और बच्‍चे के साथ ऐसा न हो।”
पोस्‍टमॉर्टम रिपोर्ट के अनुसार, राहुल की मौत तिल्‍ली फटने की वजह से हुई। उसपर लात-घूंसों की बरसात की गई थी। राहुल के परिवार को एक बात का अफसोस है। उन्‍होंने कहा कि जब राहुल को पीटा जा रहा था तो वहां पर भीड़ जमा हो गई थी। लेकिन उसकी मदद करने के बजाय लोग बस वीडियो बनाते रहे।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *