राहुल गांधी का ट्वीट, और टॉप ट्रेंड करने लगा Chinese Ambassador

नई दिल्‍ली। भारत-चीन के बीच तनावपूर्ण माहौल बना हुआ है। इसी बीच भारत में सियासत भी गर्माने लगी। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि इस मामले में आप चुप क्यों हैं। राहुल गांधी के इस ट्वीट के बाद सोशल मीडिया में Chinese Ambassador टॉप ट्रेंड कर रहा है।
सोशल मीडिया यूजर्स और बीजेपी समर्थकों ने राहुल गांधी को ट्रेंड करना शुरू कर दिया है।
इस ट्वीट से मचा हड़कंप
दरअसल, राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर चीन मसले पर चुप्पी साधने का आरोप लगाया है। राहुल गांधी ने ट्वीट किया है, ‘पीएम चुप क्यों हैं, वह क्यों छिप रहे हैं? बस बहुत हुआ। हम जानना चाहते हैं कि क्या हुआ है। चीन की हिम्मत कैसे हुई हमारे सैनिकों को मारने की? उनकी हिम्मत कैसे हुई हमारी जमीन लेने की?’
बस इसी ट्वीट के बाद राहुल गांधी को सोशल मीडिया पर घेर लिया गया। यूजर्स कहने लगे कि क्या आप चीनी राजदूत से मिलकर आए हैं या फिर आपका प्लान है।
लोगों ने याद दिलाया 2017 मामला
साल 2017 में कांग्रेस के उपाध्यक्ष रहने के दौरान राहुल गांधी ने डोकलाम विवाद के बीच चीनी राजदूत से मुलाकात की थी। हालांकि जब यह खबर सामने आई तो शुरुआत में कांग्रेस ने राहुल गांधी की चीनी राजदूत से मुलाकात की बात से इंकार किया था लेकिन बाद में राहुल गांधी ने खुद ट्वीट करके चीनी राजदूत से मुलाकात करने की जानकारी दी थी।
शेयर करना पड़ा ट्वीट
डोकलाम विवाद के दौरान राहुल गांधी ने ट्वीट किया था, ‘इस महत्वपूर्ण मुद्दे पर सूचित करना मेरा काम है। मैंने चीनी राजदूत, पूर्व एनएसए, पूर्वोत्तर कांग्रेस के नेताओं और भूटान के राजदूत से मुलाकात की है।’ अब केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने राहुल गांधी के इस ट्वीट को भी शेयर किया है।
केंद्रीय मंत्री ने किया था हमला
इसको लेकर दो दिन पहले केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने भी राहुल गांधी पर हमला बोला था। केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने ट्वीट किया, ‘राहुल गांधी लगातार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से चीन बॉर्डर विवाद के संवेदनशील तथ्यों को सार्वजनिक करने को कह रहे हैं। मुझे लगता है कि राहुल गांधी के पास एक समानांतर सूचना प्रणाली है। क्या डोकलाम विवाद के दौरान उन्होंने चीनी राजदूत से मुलाकात नहीं की थी? राहुल गांधी ने पहले तो इससे इनकार किया था, लेकिन जब हंगामा होने लगा, तो इसको स्वीकार कर लिया।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *