इकॉनमी समझने के लिए राहुल गांधी को चिदंबरम से ट्यूशन लेना चाहिए: बीजेपी

नई दिल्‍ली। बीजेपी ने बुधवार को राहुल गांधी पर तंज कसते हुए उन्हें सलाह दी कि उन्हें पूर्व वित्त मंत्री और पार्टी नेता पी चिदंबरम से इकॉनमी से जुड़े शब्दों को लेकर ट्यूशन लेना चाहिए।
केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि चिदंबरम को चाहिए कि वह राहुल गांधी को ट्यूशन दें ताकि उन्हें राइट ऑफ और वेव ऑफ का फर्क समझ में आ सके।
जावड़ेकर ने जोर देकर कहा कि मोदी सरकार ने किसी भी लोन को माफ नहीं किया है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘राहुल गांधी समझ लें कि ‘write off’ का मतलब माफी नहीं होता। मोदी सरकार ने एक पैसे का किसी का भी कर्ज माफ नहीं किया है। भ्रम फैलाने से फायदा नहीं होगा @PChidambaram_IN ने @RahulGandhi को ट्यूशन देना चाहिए कि ‘write off’ क्या होता है और ‘waive off’ क्या होता है।’
जावड़ेकर ने आगे कहा, ‘राइट ऑफ एक सामान्य अकाउंटिंग प्रक्रिया है। यह रिकवरी या डिफॉल्ट के खिलाफ कार्यवाही को नहीं रोकता।’ इससे पहले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने आरटीआई के जरिए आरबीआई से विलफुल डिफॉल्टर्स के बारे में मिली जानकारी के हवाले से मोदी सरकार पर तीखा हमला बोला था।
आरटीआई के जवाब में आरबीआई से मिली टॉप विलफुल बैंक लोन डिफॉल्टर्स की लिस्ट का जिक्र करते हुए राहुल गांधी ने मंगलवार को केंद्र सरकार को घेरा था। उन्होंने कहा था कि जब इसी सवाल को उन्होंने संसद में पूछा था तो उन्हें जवाब नहीं दिया गया।
सरकार पर हमला बोलते हुए राहुल गांधी ने कहा था कि लिस्ट में मेहुल चोकसी और नीरव मोदी जैसे भगोड़े आर्थिक अपराधियों के साथ-साथ बीजेपी के कई ‘दोस्तों’ के नाम हैं। इस पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पलटवार करते हुए कहा था कि विलफुल डिफॉल्टर्स तो कांग्रेस की अगुआई वाली यूपीए सरकार की ‘फोन बैंकिंग’ से फायदा पाने वाले लोग हैं और मोदी सरकार तो बकाया वसूली के लिए उनका पीछा कर रही है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *