पंजाब: आचार संहिता लागू होने से ठीक पहले नया DGP नियुक्त

चरणजीत सिंह चन्नी की सरकार ने 1987 बैच के IPS अधिकारी वीके भावरा को पंजाब का नया DGP नियुक्त किया है। तीन दिन पहले ही आईपीएस वीके भावरा का नाम संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) ने शीर्ष तीन आईपीएस अधिकारियों के नाम के साथ भेजा था। वीके भावरा का नाम चयन समिति की बैठक के बाद तय किया गया था। पंजाब में चार महीने के अंदर चार बार डीजीपी बदले गए हैं। वीरेंद्र कुमार भावरा चौथे डीजीपी हैं।
पंजाब पुलिस का नेतृत्व करने के लिए आईपीएस वीके भावरा, 1987-बैच के अधिकारी और राज्य के पूर्व पुलिस प्रमुख दिनकर गुप्ता और 1988-बैच के अधिकारी प्रबोध कुमार का नाम भेजा गया था। राज्य सरकार के पास यूपीएससी की ओर से भेजे गए तीन आईपीएस अधिकारियों में से एक को नियुक्त करने का विशेषाधिकार होता है। इसी के तहर वीके भावरा को सरकार ने डीजीपी बनाया है।
सरकार को उठानी पड़ी शर्मिंदगी
चूंकि पंजाब सरकार पूरी कोशिश थी कि यूपीएससी 1986 बैच के आईपीएस अधिकारी सिद्धार्थ चट्टोपाध्याय के नाम पर विचार करे। चन्नी सरकार को शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा क्योंकि यूपीएससी ने चट्टोपाध्याय का नाम हटा लिस्ट से हटा दिया क्योंकि वह 31 मार्च को रिटायर हो रहे हैं।
यूपीएससी ने कही यह बात
यूपीएससी ने 30 सितंबर 2021 को डीजीपी के चयन की कट ऑफ तिथि के रूप में नहीं माना क्योंकि राज्य सरकार ने इसे आगे बढ़ाया था। जैसा कि यूपीएससी ने 5 अक्टूबर 2021 को कट ऑफ तिथि के रूप में माना, चट्टोपाध्याय के पास पद के लिए अनिवार्य छह महीने की शेष पात्रता सेवा अवधि से कम बचा था। भावरा डीजीपी पंजाब होमगार्ड और डायरेक्टर सिविल डिफेंस का प्रभार संभाल रहे थे। उनका रिटायरमेंट 31 मई, 2024 को है।
चुनाव आयोग ने अक्टूबर 2016 में 2017 के पंजाब विधानसभा चुनावों के लिए भावरा को नोडल अधिकारी चुना था। इससे पहले अपनी केंद्रीय प्रतिनियुक्ति के दौरान, भवरा ने इंटेलिजेंस ब्यूरो में भी काम किया है।
ऐसे बदले तीन डीजीपी
सितंबर में कैप्टन अमरिंदर सिंह की जगह चन्नी के मुख्यमंत्री बनने के बाद, उन्होंने 25 सितंबर को सहोता को कार्यवाहक डीजीपी बनाया। राज्य पुलिस प्रमुख गुप्ता को छुट्टी पर भेज दिया गया था। सहोता की नियुक्ति का पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने इस आधार पर कड़ा विरोध किया था कि सहोता 2015 में बेअदबी के मामलों की जांच कर रही एसआईटी के प्रमुख थे, जिन्होंने दो निर्दोष सिखों को गिरफ्तार किया था, लेकिन बाद में उन्हें छोड़ना पड़ा। अंत में, सिद्धू सफल हुए और 17 दिसंबर को सहोता की जगह चट्टोपाध्याय को कार्यवाहक डीजीपी नियुक्त किया गया।
इससे पहले पैनल में भेजे गए थे छह नाम
चट्टोपाध्याय, भवरा, गुप्ता और कुमार के अलावा, राज्य सरकार ने पिछले साल 30 सितंबर को डीजीपी पद के लिए यूपीएससी को पैनल में छह और नाम भेजे थे। इनमें एमके तिवारी (1987-बैच), रोहित चौधरी (1988-बैच), पूर्व कार्यवाहक राज्य पुलिस प्रमुख इकबाल प्रीत सिंह सहोता (1988-बैच), संजीव कालरा (1989-बैच), पराग जैन (1989-बैच) शामिल हैं। बरजिंदर कुमार उप्पल (1991-बैच)।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *