पुलवामा हमला: शशि थरूर बोले, कांग्रेस किस चीज की माफी मांगे

नई दिल्‍ली। पुलवामा में हुए आतंकी हमले को लेकर पाकिस्तान की संसद में इमरान खान के मंत्री के कबूलनामे के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विपक्ष पर निशाना साधा है। प्रधानमंत्री मोदी की ओर से विपक्ष से इस मुद्दे पर माफी मांगने की बात कांग्रेस को नागवार गुजरी है। कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरूर ने अब इसे लेकर बीजेपी से सवाल पूछा है।
दरअसल, पाकिस्तान के मंत्री का बयान आने के बाद बीजेपी ने कांग्रेस पर जोरदार निशाना साधते हुए देश से माफी मांगने की मांग की। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि साजिश की कहानियां बुनने और हमले को लेकर दिए गए बयानों पर कांग्रेस को माफी मांगनी चाहिए। इस पर जवाब देते हुए तिरुवनंतपुरम के सांसद शशि थरूर ने कहा है कि मैं अभी भी ये जानने की कोशिश कर रहा हूं कि आखिर कांग्रेस किस चीज की माफी मांगे।
‘कांग्रेस पार्टी को किस बात की माफी मांगनी होगी’
थरूर ने कहा, ‘ मैं अभी तक नहीं समझ पा रहा हूं कि कांग्रेस पार्टी को किस बात की माफी मांगनी होगी? क्या इस बात के लिए कि हम उम्मीद करते हैं कि हमारी सरकार हमारे जवानों की सुरक्षा को सुनिश्चित करे? या फिर इसलिए कि हमने इस राष्ट्रीय त्रासदी का राजनीतिकरण नहीं किया? या फिर शहीदों के परिवारों के प्रति संवेदना प्रकट करने के लिए हमें माफी मांगनी होगी?
केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने ट्वीट में कहा था कि पाकिस्तान ने पुलवामा आतंकी हमले में अपना हाथ होने की बात मान ली है। अब कांग्रेस और अन्य लोगों को, जिन्होंने साजिश की कहानियां बुनी थी, अपने बयानों को लेकर देश से क्षमा मांगनी चाहिए।
पाकिस्तान के मंत्री ने मानी पुलवामा हमले की बात
पाकिस्तान की इमरान खान सरकार में मंत्री फवाद चौधरी ने गुरुवार को संसद में माना कि पुलवामा में CRPF के काफिले पर हुए हमले में पाकिस्तान का हाथ था। उन्होंने कहा कि पुलवामा हमला पाकिस्तान की कामयाबी है। फवाद चौधरी ने पुलवामा हमले का श्रेय इमरान खान और उनकी पार्टी PTI को दिया। उन्होंने कहा कि पुलवामा हमला इमरान खान के लिए एक उपलब्धि है। हालांकि बाद में फवाद हुसैन अपनी बात पर सफाई देने लगे और कहा कि उनकी बातों का गलत मतलब निकाला गया, वह आतंकवाद की निंदा करते हैं।
CRPF के 40 हुए थे जवान शहीद
पिछले साल 14 फरवरी 2019 को कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकी हमला हुआ था जिसमें CRPF के 40 जवान शहीद हो गए थे। इस हमले में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों ने आईईडी से भरी एक कार का इस्तेमाल किया था, जिसे सीआरपीएफ जवानों के काफिले से लड़ा दिया गया था। इस हमले की जिम्मेदारी पाकिस्तान बेस्ड आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *