प्रिंस फिलिप का अंतिम संस्कार आज, सिर्फ़ तीस लोग होंगे शामिल

प्रिंस फिलिप का अंतिम संस्कार आज शनिवार को ब्रिटेन के विंडसर कासल के सेंट जॉर्ज चैपल में ब्रितानी समयानुसार दिन में तीन बजे होगा.
शवयात्रा के दौरान ड्यूक ऑफ़ एडिनबरा प्रिंस फिलिप के बच्चे उनकी शवगाड़ी के पीछे-पीछे चलेंगे.
कोरोना वायरस प्रतिबंधों की वजह से अंतिम संस्कार में सिर्फ़ तीस लोग ही शामिल हो सकेंगे.
बकिंघम पैलेस ने एक बयान में कहा है कि महारानी एलिज़ाबेथ को शोकाकुलों की अंतिम सूची तैयार करने में मुश्किल फैसला लेना पड़ा है.
शुरुआत में 800 लोगों के शामिल होने की तैयारी की गई थी लेकिन अब सिर्फ़ तीस ही लोग अंतिम संस्कार में शामिल हो रहे हैं.
महारानी चाहती थीं कि प्रिंस फ़िलिप के परिवार के सभी लोगों का अंतिम संस्कार समारोह में प्रतिनिधित्व हो.
चर्च ऑफ़ इंग्लैंड के प्रमुख ऑर्चबिशप ऑफ केंटरबरी ने कहा है कि प्रिंस फ़िलिप का अंतिम संस्कार महारानी के पास उन्हें अंतिम विदाई देने का ‘गंभीर’ अवसर होगा.
जस्टिन वेल्बी ने कहा, “वो असाधारण मर्यादा, असाधारण सम्मान के साथ व्यवहार करेंगी जैसा कि वो हमेशा करती रही हैं.”
आर्चबिशप जस्टिन वेल्बी ने कहा है कि महामारी के दौरान बहुत से लोगों ने अपनों को खोया है, ये अंतिम संस्कार समारोह बहुत से लोगों को भावनात्मक रूप से जोड़ेगा.
उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि बहुत से घरों में लोगों की आंखों में आंसू होंगे क्योंकि उनके अपने के नाम उनके जेहन में घूम रहे होंगे. वो चेहरे उनके सामने होंगे जिन्हें वो दोबारा नहीं देख पाएंगे. वो अंतिम संस्कार उन्हें याद आएंगे जिनमें वो जा नहीं सके. इस संस्कार में भी बहुत से लोग नहीं आ पा रहे हैं क्योंकि संख्या तीस तक ही सीमित है. इससे भी बहुत से लोगों के दिल टूटेंगे.”
जस्टिन वेल्बी ने कहा, “महारानी एलिज़ाबेथ ऐसे इंसान को विदाई दे रही होंगी जो 73 सालों से उनका पति था. मुझे लगता है कि ये किसी के भी जीवन का बेहद, बेहद गंभीर पल होगा.”
इसी बीच द अर्ल एंड काउंटेस ऑफ़ वेसेक्स और उनकी बेटी लेडी लुइस विंडसर प्रिंस फिलिप की याद में विंडसर कासल के बाहर छोड़े गए फूलों और कार्डों को देख रहे हैं.
इससे पहले ब्रितानी सैन्य बलों के प्रमुख ने कहा है कि अंतिम संस्कार पर ड्यूक की छाप होगी और ये उनकी व्यापक रुचिओं और हर चीज़ पर पूरा ध्यान देने की उनकी शैली को प्रतिबिंबित करेगा.
चीफ़ ऑफ़ डिफ़ेंस स्टाफ़ जनरल सर निक कार्टर ने कहा, “ज़ाहिर तौर पर अंतिम संस्कार कोविड से प्रभावित है लेकिन फिर भी ये सैन्य स्तर की सूक्ष्मता को प्रदर्शित करेगा.”
प्रिंस फिलिप के शव को एक ख़ासतौर से तैयार की गई लैंड रोवर कार में रखा जाएगा. ड्यूक ने स्वयं इस कार को डिज़ाइन करने में मदद की थी. उन्होंने गुज़ारिश की थी कि कार को सेना के हरे रंग में पोता जाए.
ड्यूक ने अपने अंतिम संस्कार के दौरान वेदी पर रखे जाने वाले रीगेलिया (शाही निशान) को भी स्वयं चुना है. इसमें रखे जाने वाले पदक, सजावट और प्रतीक ड्यूक ने तय किए हैं.
महारानी एलिज़ाबेथ ने तय किया है कि प्रिंस फ़िलिप के अंतिम संस्कार में कोई सैन्य पोशाक नहीं पहनेगा. अंतिम संस्कार में शामिल लोग मेडलों से सजे कोट या दिन में पहने जाने वाले कपड़े पहन सकेंगे.
प्रिंस फिलिप का 99 साल की उम्र में शुक्रवार 9 अप्रैल को विंडसर कासल में देहांत हो गया था.
अंतिम यात्रा में सबसे आगे ग्रेनाडियर गार्ड का बैंड होगा, उसके पीछे परिवार के लोग और सेना प्रमुख होंगे.
ड्यूक के चारों बच्चों- द प्रिंस ऑफ़ वेल्स, द प्रिंसेस रॉयल, द ड्यूक ऑफ़ यॉर्क और द अर्ल ऑफ़ वेसेक्स के साथ-साथ उनके पोते ड्यूक ऑफ़ केंब्रिज और ड्यूक ऑफ़ ससेक्स और पीटर फिलिप्स ताबूत के पीछे-पीछे चलेंगे.
महारानी बेंटले कार से शवयात्रा के सबसे आख़िर में होंगी और चर्च में बगल के दरवाज़े से दाख़िल होंगी.
कोविड के नियमों के तहत संस्कार में शामिल सभी लोग मास्क लगाए होंगे और सोशल डिस्टेंस का पालन करेंगे. महारानी अकेली बैठेंगी.
शाही इतिहासकार प्रोफ़ेसर केट विलियम्स के मुताबिक बाकी शोकाकुलों से अलग अकेली बैठीं महारानी की तस्वीर गहरा प्रभाव छोड़ेगी.
अंतिम संस्कार में डचेस ऑफ़ कॉर्नवाल, डचेस ऑफ़ केंब्रिज और ड्यूक के सभी पोते-पोती और उनके जीवनसाथी शामिल होंगे. हालांकि डचेस ऑफ़ ससेक्स संस्कार में नहीं होंगी. वो गर्भवती हैं और इस समय अमेरिका में हैं.
महारानी की बहन प्रिंसेस मार्गरेट के बच्चे भी संस्कार में शामिल रहेंगे. उनके अलावा प्रिंस फिलिप के तीन जर्मन रिश्तेदार- बर्नहार्ड- द हेरेडेट्री प्रिंस ऑफ़ बाडेन, डोनाटस- प्रिंस एंड लैंडग्रेव ऑफ़ हेस्से और होहनलोहे-लैंगनबर्ग के प्रिंस फ़िलिप भी संस्कार में शामिल रहेंगे.
द काउंटेस माउंटबेटन ऑफ़ बर्मा भी संस्कार में शामिल होंगी. प्रिंस फिलिप जब घोड़ागाड़ी की कोचवानी का अपना शौक पूरा कर रहे थे तब वो उनकी पार्टनर थीं.
डाउनिंग स्ट्रीट के एक प्रवक्ता ने बताया है कि प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन अपने निवास चेकर्स में बैठकर टीवी पर अंतिम संस्कार देखेंगे.
इसी बीच हीथ्रो एयरपोर्ट ने कहा है कि ब्रितानी समयानुसार तीन बजे मौन के समय का सम्मान करने के लिए एयरपोर्ट पर छह मिनट तक ना कोई विमान लैंड करेगा और ना ही उड़ान भरेगा.
-BBC

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *