पंजाब में बड़े एक्‍शन की तैयारी, राष्ट्रपति रामनाथ से मिले पीएम मोदी

पंजाब में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में चूक पर एक्‍शन लिया जा सकता है। गुरुवार को पीएम मोदी ने राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात की। राष्‍ट्रपति भवन के अनुसार पीएम ने सुरक्षा में चूक का ‘फर्स्‍ट-हैंड’ ब्‍योरा राष्‍ट्रपति को दिया। राष्‍ट्रपति ने प्रधानमंत्री के पंजाब दौरे में सुरक्षा में चूक पर चिंता भी जताई। पीएम की सुरक्षा में चूक का मामला सुप्रीम कोर्ट भी पहुंच चुका है। SC ने केंद्र और राज्‍य सरकार को नोटिस दिया है।
उधर, बीजेपी ने इस मुद्दे को लेकर पंजाब की कांग्रेस सरकार पर हमला बोल रखा है। चरणजीत सिंह चन्नी सरकार ने मामले की जांच के लिए हाई लेवल कमेटी बनाई है।
पंजाब में बड़ा एक्‍शन होगा?
राष्‍ट्रपति कोविंद से पीएम मोदी की मुलाकात के बाद सोशल मीडिया पर चर्चा तेज हो गई है कि क्‍या केंद्र सरकार कोई बड़ा एक्‍शन लेने वाली है। पूर्व मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने पंजाब में राष्‍ट्रपति शासन लगाने की मांग की है। पंजाब के विपक्षी दलों ने भी एक सुर में पीएम में सुरक्षा में चूक की निंदा की है। हालांकि सीएम चन्‍नी ने इन आरोपों का जिम्‍मा लेने से साफ इंकार कर दिया। उन्‍होंने साफ कहा कि पीएम मोदी को कोई खतरा नहीं था।
SC पहुंचा सुरक्षा में चूक का मामला
सीनियर एडवोकेट मनिंदर सिंह ने चीफ जस्टिस एनवी रमन से इस पूरे मामले की शिकायत की है। सिंह ने कहा कि यह पंजाब सरकार की ओर से एक गंभीर चूक है। प्रधानमंत्री का काफिला सड़क पर फंस गया था, जिससे अस्वीकार्य सुरक्षा उल्लंघन हुआ था। शीर्ष अदालत ने सिंह से पूछा, वह अदालत से क्या उम्मीद कर रहे हैं? सिंह ने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि यह दोबारा न हो और गहन जांच की जरूरत है। उनकी याचिका पर संज्ञान लेते हुए कोर्ट ने कहा कि केंद्र और पंजाब की सरकारों को आज ही याचिका की एक-एक कॉपी भेजी जाए।
गृह मंत्रालय ने मांगी रिपोर्ट
गृह मंत्रालय ने इस गंभीर सुरक्षा चूक का संज्ञान लेते हुए पंजाब सरकार से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। मंत्रालय ने कहा कि प्रधानमंत्री के कार्यक्रम और यात्रा की योजना के बारे में पंजाब सरकार को पहले ही जानकारी दे दी गयी थी। पंजाब सरकार को सड़क मार्ग से किसी भी यात्रा को सुरक्षित रखने के लिए अतिरिक्त सुरक्षाकर्मी तैनात करने चाहिए थे।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *