चक्रवात यास के मद्देनजर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की अधिकारियों के साथ बैठक, गृह मंत्री अमित शाह भी रहे मौजूद

नई दिल्‍ली। चक्रवात यास के गंभीर चक्रवाती तूफान में बदलने की संभावना को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज सुबह NDMA के अधिकारियों के साथ बैठक की। इसमें गृह मंत्री अमित शाह भी शामिल रहे।
वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए की गई इस के दौरान उन्होंने वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों, राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के प्रतिनिधियों और दूरसंचार, बिजली, नागरिक उड्डयन, पृथ्वी विज्ञान मंत्रालयों के सचिवों के साथ चर्चा की।
चक्रवात यास के बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान में बदलने और 26 मई को ओडिशा, पश्चिम बंगाल के तटों को पार करने की आशंका मौसम विभाग ने जताई है।
चक्रवाती तूफान यास के खतरे को देखते हुए ओडिशा सरकार ने तटीय जिलों में हाई अलर्ट जारी कर दिया है। वहीं, पश्चिम बंगाल सरकार ने तूफान के मद्देनजर सभी एहतियाती कदम उठाए हैं और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी हालात का जायजा लेने के लिए खुद कंट्रोल रूम में मौजूद रहेंगी।
भारतीय तटरक्षक देश के पूर्वी तट पर विकसित हो रहे चक्रवातीय तूफान ‘यास’ के कारण उत्पन्न हो सकने वाली संभावित चुनौतियों से निपटने की तैयारी में जुटे हैं। तटरक्षक की ओर से जारी बयान के अनुसार, भारत मौसम विज्ञान विभाग ने कहा कि उत्तरी अंडमान सागर और पूर्वी मध्य बंगाल की खाड़ी में 22 मई को बना कम दबाव का क्षेत्र 24 मई तक चक्रवाती तूफान का रूप ले सकता है। ‘यास’ के उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने और 26 मई तक ओडिशा-पश्चिम बंगाल पहुंचने की संभावना है।
चक्रवात ‘यास’ से निपटने को तैयार है तटरक्षक
तटरक्षक ईस्टर्न सीबोर्ड ने चक्रवात के मद्देनजर एहतियाती कदम उठाने शुरू कर दिए हैं। ईस्टर्न सीबोर्ड में तटरक्षक स्टेशन, जहाज और विमान हाई अलर्ट पर हैं। वहीं पश्चिम बंगाल में चक्रवातीय तूफान के मद्देनजर कोलकाता पोर्ट टस्ट्र (श्यामा प्रसाद मुखर्जी बंदरगाह भी तैयारियों में जुटा हुआ है। बंदरगाह जानमाल, जहाजों तथा अन्य संपत्ति के नुकसान से बचने के लिए पर्याप्त व्यवस्था कर रहा है।
कोई भी जहाज नदी की गोदी में ना रहे
बंदरगाह के अध्यक्ष विनित कुमार ने कहा कि बंदरगाह के अधिकारियों से कहा गया है कि वे तय करें कि चक्रवातीय तूफान के यहां पहुंचने से पहले सभी जहाजों के लंगर पड़ जाएं और कोई भी जहाज नदी की गोदी में ना रहे। उन्होंने बताया कि कोलकाता डॉक सिस्टम और हल्दिया डॉक सिस्टम कॉम्प्लेस में नियंत्रण कक्ष स्थापित किए गए हैं।
बंगाल में चक्रवात के मद्देनजर सभी एहतियाती कदम उठाए गए
पश्चिम बंगाल सरकार ने चक्रवात ‘यास’ के मद्देनजर सभी एहतियाती कदम उठाए हैं और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी हालात का जायजा लेने के लिए खुद नियंत्रण कक्ष में मौजूद रहेंगी। अधिकारियों ने शनिवार को इस आशय की जानकारी दी। दरअसल बंगाल की खाड़ी में बने कम दबाव के क्षेत्र के चक्रवातीय तूफान ‘यास’ में बदलने की संभावना है और उसके 26 मई को पश्चिम बंगाल तथा ओडिशा तट तक पहुंचने का अनुमान है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *