प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फ्रांस में भारतीय समुदाय को फुटबॉल के गोल से समझाई अपनी रणनीति

पैरिस। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2 दिनों के फ्रांस दौरे के दौरान आज भारतीय समुदाय को संबोधित किया। पीएम के स्वागत के लिए बड़ी संख्या में भारतीय तिंरगा झंडे के साथ पहुंचे थे। पीएम मोदी ने गर्मजोशी से मिलने आए लोगों के साथ हाथ मिलाया और फोटो खींची। पीएम मोदी के लिए जुटे समुदाय ने मोदी-मोदी और भारत माता की जय के नारे लगाए। मोदी-मोदी और भारत माता की जय के नारों के बीच पीएम मोदी ने कहा कि भारत और फ्रांस के साझा मूल्य हैं। पीएम ने अपने संबोधन में इशारों-इशारों में 370 हटाने का जिक्र करते हुए कांग्रेस पर कटाक्ष किया और कहा कि भारत में अब टेंपररी कुछ नहीं रहा, जो टेंपररी था उसको हमने निकाल दिया। उन्होंने कहा कि जो टेंपररी था, उसे निकालने में 70 साल लग गए। इस पर हंसा जाए या फिर रोया जाए। मोदी ने कहा कि सिर्फ 75 दिनों में हमारी सरकार ने महत्वपूर्ण फैसले लिए। पीएम मोदी ने परिवारवाद, भ्रष्टाचार पर हमला बोलते हुए कहा कि नया भारत सपनों की राह पर चल पड़ा है। मोबलां की पहाड़ियों पर दुर्घटनाग्रस्त 2 विमान की याद में स्मारक का उद्घाटन भी पीएम मोदी ने किया। इस विमान में मशहूर वैज्ञानिक होमी जहांगीर भी सवार थे, जिनकी मौत इसी हादसे में हुई थी।
पीएम मोदी जब मंच पर बोलने के लिए पहुंचे तो मौजूद लोगों ने तालियां बजाकर जोरदार अंदाज में स्वागत किया। पीएम ने फ्रेंच में भी लोगों का अभिनंदन किया।
उन्होंने कहा, ‘फ्रांस और भारत की मित्रता कोई नई नहीं है बल्कि सालों पुरानी है। ऐसा कोई मौका नहीं होगा जहां दोनों देशों ने एक-दूसरे का समर्थन नहीं किया या एक-दूसरे के साथ काम नहीं किया। जब भारत या फ्रांस में कोई अच्छी उपलब्धि होती है तो हम एक-दूसरे के लिए खुश होती हैं।’
फ्रांस की फुटबॉल टीम की जीत का जिक्र किया पीएम ने
पीएम मोदी ने फ्रांस और भारत की दोस्ती पर जोर देते हुए कहा कि दोनों देश एक-दूसरे के सुख और दुख में खड़े रहे। पीएम ने कहा, ‘मुझे लगता है कि भारत में फ्रांस की फुटबॉल टीम के जितने समर्थक हैं, उनकी जितनी संख्या भारत में हैं फ्रांस में भी शायद न हो। जब फ्रांस ने वर्ल्ड कप जीता था तो भारत में भी जोर-शोर से इसका जश्न मनाया गया। दुख में भी हम एक-दूसरे के साथ खड़े रहे। फ्रांस में हुए एयर इंडिया के 2 विमान हादसों की याद में बना स्मारक है।’
स्मारक बनाने वालों को पीएम ने दिया धन्यवाद
स्मारक बनाने के लिए लोगों का धन्यवाद करते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘इनमें भारत के महान वैज्ञानिक डॉक्टर होमी जहांगीर भाभा भी थे। इस दुर्घटना में जिन्होंने भी अपने प्राण गवाएं मैं उन्हें श्रद्धांजलि देता हूं। इस मेमोरियल का हर पत्थर दोनों देशों की संवेदनशीलता का सबूत है। हादसे के बाद विमान के मलबे की खोज में फ्रांस के गाइड दल ने दिन-रात काम किया था। आज उन गाइड्स के परिवार से संपर्क का अवसर मिला। मैं भारत की तरफ से उनका आदरपूर्वक आभार व्यक्त करता हूं।’
पीएम ने कहा, मैंने 4 साल पहले फ्रांस में किया वादा निभाया
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इन दिनों पैरिस राम की भक्ति में रम गया है। उन्होंने कहा, ‘पूज्य बापू की स्मृति में राम की भक्ति में डूब गया है। जो लोग अपना समय इंद्र के लिए नहीं बदलते आज नरेंद्र के लिए बदला है। पूज्य बापू में रामभक्ति भी है और राष्ट्रभक्ति भी। पीएम ने कहा कि आम तौर पर राजनेता अपना वादा भुला देता है। 4 साल पहले मैं फ्रांस आया था तो वादा किया था, मुझे याद है। मैंने कहा था कि भारत आकांक्षाओं और आशाओं के सफर पर निकल चुका है। आज भारत न सिर्फ उस रास्ते पर निकल चुका है बल्कि 130 करोड़ भारतवासियों के विश्वास के साथ तेज गति से आगे बढ़ रहा है। यही कारण है कि इस बार फिर पहले से भी अधिक प्रचंड जनादेश देकर हमारी सरकार को समर्थन दिया है।’
फुटबॉल के गोल से समझाई अपनी रणनीति
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फुटबॉल का जिक्र करते हुए कहा कि हमारी सरकार ने असंभव गोल किए। उन्होंने कहा, ‘मैं फुटबॉल प्रेमियों के देश में हूं। आप जानते हैं कि फुटबॉल में गोल का क्या महत्व है। हमने अपनी सरकार के लिए कुछ ऐसे ही गोल तय किए जो असंभव लग रहे थे। हमने देश में कई कुरीतियों को रेड कॉर्ड भी पिछले 5 साल में दे दिया।’
भ्रष्टाचार, परिवारवाद पर पीएम ने पैरिस में बोला हमला
आज नए भारत में भ्रष्टाचार, परिवारवाद, भाई-भतीजावाद, जनता के पैसे की लूट, आतंकवाद पर जिस तरह लगाम कसी जा रही है वैसा पहले कभी नहीं हुआ। नए भारत में थकने-रुकने का सवाल ही पैदा नहीं होता। नई सरकार को बने ज्यादा दिन नहीं हुए, अभी सिर्फ 75 दिन हुए हैं। 100 दिन होना बाकी है। ये दिन तो सरकार बनने के बाद स्वागत-सम्मान, जय-जयकार के होते हैं। हम उस चक्कर में नहीं पड़े। सिर्फ 75 दिन ही पूरे हुए, लेकिन स्पष्ट नीति, सही दिशा से प्रेरित होकर एक के बाद एक कई बड़े फैसले ले लिए।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »