विकास दुबे का एक और साथी प्रभात मिश्रा मुठभेड़ में मारा गया

कानपुर। विकास दुबे का एक और साथी प्रभात मिश्रा उर्फ कार्तिकेय आज पुलिस मुठभेड़ में ढेर हो गया। उसके ऊपर 50 हजार रुपये का इनाम था। प्रभात ने मुठभेड़ के दौरान ‘अपना टाइम आएगा’ वाली प्रिंटेड टी शर्ट पहनी थी।
जानकारी के मुताबिक जब प्रभात पुलिस की पिस्टल लेकर भाग रहा था तो पुलिस कर्मियों से कह रहा था कि अभी मेरा टाइम नहीं आया है।
प्रभात ने पुलिस पर कई गोलियां पुलिस पर बरसाईं लेकिन पुलिस ने चारों तरफ से उसकी घेराबंदी कर मुठभेड़ में मार गिराया। प्रभात मिश्रा बिकरू गांव का ही रहने वाला था जहां बीते दिनों आठ पुलिसकर्मी शहीद हुए थे।
जानकारी के मुताबिक प्रभात ने विकास दुबे के साथ मिलकर पुलिस टीम पर फायरिंग की थी जिसमें 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे। इस घटना के बाद से प्रभात का पूरा परिवार घर छोड़कर भाग गया था।
प्रभात को फरीदाबाद से यूपी एसटीएफ ट्रांजिट रिमांड पर लेकर कानपुर आ रही थी। कानपुर के पनकी बाईपास के पास पुलिस की गाड़ी पंचर हो गई थी। प्रभात ने मौका पर पुलिस की पिस्टल लेकर भागने लगा। पुलिस ने उसका पीछा किया तो उसने पुलिस पर फायरिंग कर दी। पुलिस की जवाबी फायरिंग मे प्रभात मारा गया।
प्रभात को था पुलिस वालों को मारने का अफसोस
कानपुर में आठ पुलिसवालों की हत्या का आरोपी गैंगस्टर विकास दुबे आज ही मध्‍यप्रदेश के उज्जैन में गिरफ्तार कर लिया गया है जबकि पुलिस ताबड़तोड़ छापेमारी कर उसके साथियों को दबोच रही है। फरीदाबाद क्राइम ब्रांच ने भी विकास के दो साथियों को गिरफ्तार किया है। विकास के करीबी प्रभात ने एक टीवी चैनल से बातचीत में कहा था कि घटना वाली रात में वह विकास के घर पर था और उसने भी फायरिंग की थी। साथ ही उसने कहा था, ‘मुझे पुलिस वालों को मारने का अफसोस है।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *