यूपी में ‘अब्‍बाजान’ पर सियासत जारी, अब कार्टून के जरिए साधा निशाना

उत्तर प्रदेश में अगले कुछ महीनों में व‍िधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में प्रदेश में राजनीति वार-पलटवार का स‍िलस‍िला तेज हो गया है। प्रदेश में जारी ‘अब्बा जान’ का राजनीति विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। सोमवार को इस विवाद पर एक कार्टून वायरल ने आग में घी डालने का काम क‍िया है। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल-मुस्लिमीन AIMIM के नेता असदुद्दीन ओवैसी और समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव पर कटाक्ष करने वाले इस कार्टून के साथ बीजेपी ने कथित तौर पर विवाद को हवा दी है।
कार्टून में है क्‍या?
दरअसल, वायरल कार्टून में असदुद्दीन ओवैसी और अखिलेश यादव को मुगल सम्राट जहांगीर और अनारकली के रूप में दिखाया गया है, जो गरीबों के लिए राशन की एक बोरी पर लेटे हुए दिखाई दे रहे हैं जबकि ‘अब्बा जान’ मुलायम सिंह यादव को दिखाया गया है। कार्टून के दूसरे हिस्से में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गरीबों को राशन बांटते नजर आ रहे हैं।
सीएम योगी ने द‍िया था ये बयान
हाल ही में यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि जो ‘अब्बा जान’ की बात करते हैं वही गरीबों के लिए बने राशन को खा जाते हैं। आदित्यनाथ ने कुशीनगर में कहा, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में तुष्टिकरण की राजनीति के लिए कोई जगह नहीं है। 2017 से पहले क्या सभी को राशन मिलता था? पहले केवल ‘अब्बा जान’ कहने वाले ही राशन खाते थे।
योगी के कमेंट पर व‍िपक्ष का हमला
अखिलेश यादव और ओवैसी ने कई अन्य विपक्षी नेताओं के साथ मुख्यमंत्री की टिप्पणी के लिए उन पर निशाना साधा। इससे विपक्षी दलों में एक बड़ा हंगामा हुआ, जिन्होंने आदित्यनाथ पर जबरदस्त सांप्रदायिकता का आरोप लगाया। दूसरी ओर अखिलेश यादव ने कहा क‍ि चार साल से अधिक समय के बाद भी यह सरकार नाम और रंग बदल रही है। समाजवादी पार्टी की सरकार की ओर से किए गए कार्यों पर अपना दावा कर रही है।
अख‍िलेश ने कसा तंज
अख‍िलेश ने कहा क‍ि जैसा कि वे जानते हैं कि उनकी सरकार रास्ते में है, उनकी भाषा बदल गई है। उन्होंने कहा कि कुछ साल पहले जब मुख्यमंत्री कुशीनगर गए, तो बच्चों और गरीबों को पहले नहाने और फिर मिलने के लिए साबुन और शैंपू दिए गए थे।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *