यूपी के पांचवें इंटरनेशनल एयरपोर्ट का जेवर में श‍िलान्‍यास कर PM ने कहा, हम राष्ट्र प्रथम की भावना पर चलते हैं

नोएडा। जेवर में आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट का शिलान्यास किया। 6200 हेक्टेयर में यह एशिया का सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा। खास बात यह कि यह प्रदूषण से मुक्त होगा और यूपी का पांचवां इंटरनेशनल एयरपोर्ट होगा। प्रधानमंत्री एयरपोर्ट के शिलान्यास के बाद प्रदर्शनी देखी। इसमें एयरपोर्ट की विकास यात्रा के बारे में फिल्म भी दिखाई गई। प्रधानमंत्री के कार्यक्रम के चलते पुलिस आज सुबह से ही सतर्क रही। पीएम मोदी ने शिलान्यास के बाद जनता को संबोधित किया।

हम राष्ट प्रथम की भावना पर चलते हैं
पीएम ने कहा कि हम राष्ट्र प्रथम की भावना पर चलते हैं। यूपी और देश के लोग गवाह हैं कि बीते कुछ हफ्तों में विपक्षियों द्वारा कैसी राजनीति हुई लेकिन देश विकास के रास्ते पर नहीं रुका। इसी महीने की शुरुआत में 2070 तक नेट जीरो की घोषणा की है। यूपी में एक साथ नौ मेडिकल कॉलेज की शुरुआत कर नई इबारत लिखी है। महोबा और झांसी में भी कई काम हुए। पूर्वांचल एक्सप्रेसवे भी यूपी को समर्पित किया गया। इसी महीने महाराष्ट्र के पंडरपुर में सैकड़ों किलोमीटर के हाईवे का उद्घाटन किया गया। हमारे राष्ट्रभक्ति के सामने कुछ राजनीतिक दलों की कामनाएं टिक नहीं सकतीं। यही प्रगति हमें आगे ले जाएगी।

इंटरनेशनल एयर कनेक्टिविटी यूपी को नई पहचान दे रहा है
प्रधानमंत्री ने कहा कि यूपी की इंटरनेशनल एयर कनेक्टिविटी यूपी को नई पहचान दे रहा है। आने वाले दो तीन सालों में पांच इंटरनेशनल एयरपोर्ट वाला राज्य बन जाएगा। पिछली सरकारों ने कैसे पश्चिमी यूपी के विकास को नजरअंदाज किया उसका एक उदाहरण जेवर एयरपोर्ट भी है। दो दशक पहले राज्य की भाजपा सरकार ने इसका सपना देखा लेकिन बाद की सरकारों ने इसे फंसाए रखा। एक सरकार ने तो लिखित में केंद्र को दिया था कि इस एयरपोर्ट का काम बंद किया जाए। लेकिन डबल इंजन की सरकार ने इस सपने को साकार किया। पीएम ने कहा कि हम चाहते तो 2017 में ही यहां आकर शिलान्यास कर देते लेकिन हमने ऐसा नहीं किया। पहले सरकारें रेवड़ियों की तरह इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजक्ट की घोषणा कर देती थीं लेकिन कोई विचार नहीं करती थीं कैसे बनेगा। इसी वजह से लागत कई गुना बढ़ जाती थी। एक-दूसरे पर ठीकरा फोड़ने की नीति शुरू हो जाती है। लेकिन हमने ऐसा नहीं किया। क्योंकि ये हमारे लिए राजनीति नहीं राष्ट्रनीति का एक बड़ा हिस्सा है। हमारी कोशिश है कि प्रोजेक्ट लटके नहीं, भटके नहीं। तय समय पर काम पूरा हो, देरी होने पर जुर्माने का भी प्रावधान है। किसानों की जमीन को लेकर जिस तरह की देरी होती थी वो भी प्रोजेक्ट में देरी का कारण बनती थी। हमने किसान हित में, देश के हित में इन अड़चनों को भी दूर किया। हमने कोशिश की कि पूरी पारदर्शिता के साथ भूमि अधिग्रहण हो इसके बाद हमने शिलान्यास किया ताकि सबके साथ न्याय हो।

पीएम ने कहा, यह एयरपोर्ट एक्सपोर्ट के लिए अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट से सीधा जुड़ेगा। छोटे किसान यहां से सीधे जल्द खराब होने वाले वस्तुओं को सीधे एक्सपोर्ट कर सकेंगे। सभी आसपास के जिलों को एक्सपोर्ट के लिए बहुत लाभ होगा। हवाई अड्डे के निर्माण के दौरान सुचारू रूप से चलाने के लिए हजारों लोगों की जरूरत होती है जिससे उन्हें रोजगार मिलेगा। हमने इस सोच को बदला कि दिल्ली में एयरपोर्ट है लेकिन अन्य आसपास के जिलों को भी एयरपोर्ट चाहिए। एयर कनेक्टिविटी बढ़ने से टूरिज्म बढ़ता है। जैसे माता वैष्णो देवी और चारधाम में हेलिकॉप्टर सेवा आने से वहां टूरिज्म बढ़ा है। आजादी के सात दशक बाद यूपी को वो मिलना शूरू हुआ है जिसका वो हकदार रहा है। डबल इंजन की सरकार से यूपी देश का सबसे विकसित राज्य बन रहा है। रैपिड रेल कॉरिडोर हो, मेट्रो रेल कनेक्टिविटी हो, डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर हों यह आधुनिक यूपी की नई पहचान बन रहे हैं। यूपी को ताने सुनने के लिए मजबूर कर दिया गया था। कभी गरीबी, कभी उद्योगों के अभाव के ताने, खराब सड़कों के ताने, अपराध के ताने। यूपी के लोगों का यही सवाल था कि क्या कभी यहां की सकारात्मक छवि बन पाएगी कि नहीं। पहले की सरकार ने यूपी में जो अभाव अंधकार बनाए रखा, झूठे सपने दिखाए, वही यूपी आज अंतरराष्ट्रीय छाप छोड़ रहा है।

नोएडा एयरपोर्ट निभाएगा विकास में बड़ी भूमिका
पीएम ने कहा कि नोएडा पूरे उत्तर भारत का लॉजिस्टिक गेटवे बनेगा। आज जिस तेजी से एविएशन क्षेत्र में बढ़ोतरी हो रही है उनके लिए भी नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट की बहुत बड़ी भूमिका होगी। यह एयरपोर्ट विमानों के रखरखाव, देखभाल व मेंटेनेंस का केंद्र बनेगा, जो देश-विदेश के विमानों को सेवा देगी और देश के युवाओं को रोजगार देगी। आज भी हम अपने 85 प्रतिशत विमानों को एमआरओ सेवा के लिए विदेश भेजते हैं जिसमें 15000 करोड़ रुपये खर्च होते हैं। जिसका अधिकांश हिस्सा दूसरे देशों को जाता है लेकिन ये एयरपोर्ट इस स्थिति को भी बदलने में मदद करेगा। इस एयरपोर्ट के माध्यम से मल्टीमीडिय कार्गो हब की भी संकल्पना पूरी हो रही है। हम सभी ये जानते हैं जिन राज्यों की सीमा समुद्र से सटे होते हैं उनके लिए बंदरगाह सबसे बड़ी ताकत होती है लेकिन यूपी जैसे राज्यों के लिए यही भूमिका एयरपोर्ट की होती है।

सीएम योगी आद‍ित्‍यनाथ ने कहा कि मैं उन सभी किसानों का धन्यवाद करता हूं जिन्होंने बिना किसी विवाद के अपनी जमीन एयरपोर्ट के लिए दी। पीएम ने तमाम योजनाओं का जिक्र किया जो ग्रेटर नोएडा के लिए लागू होने जा रही हैं। गन्ने की इस मिठास को अंतरराष्ट्रीय मंच देने के लिए पीएम का यह कार्यक्रम जेवर में हुआ है।

-एजेंसी

 

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *