इनहाउस मीटिंग में CM केजरीवाल की चालाकी को PM ने पकड़ा, फटकार लगाई तो केजरीवाल माफी मांगने लगे

नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मीटिंग के दौरान दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के व्यवहार से खासे नाराज हैं। उन्होंने मीटिंग के दौरान ही केजरीवाल के लिए कड़े शब्दों का इस्तेमाल किया।
उन्होंने दिल्ली के मुख्यमंत्री से कहा कि आपने एक बहुत महत्वपूर्ण प्रॉटोकॉल तोड़ा है। ऐसे निजी बातचीत का कभी प्रचार-प्रसार नहीं किया जाता है। पीएम की इस फटकार से सीएम सकते में आ गए और उन्होंने हाथ जोड़ लिया।
पीएम की किस बात पर केजरीवाल ने जोड़े हाथ?
केजरीवाल जब आगे बोल रहे थे तो पीएम मोदी ने उन्हें टोकते हुए कहा, ‘यह हमारी जो परंपरा है, हमारा जो प्रोटोकॉल है यह उसके बहुत खिलाफ हो रहा है कि कोई मुख्यमंत्री ऐसी इनहाउस मीटिंग को लाइव टेलिकास्ट करे। यह उचित नहीं है। हमें हमेशा से संयम का पालन करना चाहिए।’ इस पर केजरीवाल ने माना की उनसे गलती हो गई है। उन्होंने पीएम से कहा, ‘ठीक है सर इसका ध्यान रखेंगे आगे से। अगर सर मेरी तरफ से कोई गुस्ताखी हुई है, मैंने कुछ कठोर बोल दिया, या मेरे आचरण में कोई गलती है, तो उसके लिए मैं माफी चाहता हूं।’
…जब पीएम ने पकड़ ली केजरीवाल की चालाकी
दरअसल, केजरीवाल अपनी बात को चुपके से रिकॉर्ड कर रहे थे। उन्हें लगा कि पीएम को इसका अंदाजा नहीं है, लेकिन जब पीएम ने उनकी चालाकी पकड़ ली तो केजरीवाल हक्का-बक्का रह गए। उन्होंने प्रधानमंत्री से हाथ जोड़कर माफी मांगी। ध्यान रहे कि केजरीवाल ने पीएम से कही गई अपनी बातें न केवल रिकॉर्ड कर लीं बल्कि इसे लीक भी कर दिया। इस पर बीजेपी के तरफ से भी कड़ी प्रतिक्रिया आई है।
वैक्सीन कीमतों को लेकर झूठ फैलाने का आरोप
सूत्रों के मुताबिक केजरीवाल के इस व्यवहार से पीएम काफी खफा हैं। एक सूत्र ने बताया कि मीटिंग में केजरीवाल ने ऑक्सीजन को एयरलिफ्ट करने की मांग उठाई, लेकिन उन्हें यह बात पता ही नहीं थी कि यह पहले से ही किया जा रहा है। उन्होंने रेलवे की तरफ से ऑक्सीजन एक्सप्रेस की बात कही, लेकिन रेलवे के सूत्रों ने कहा कि उन्होंने इस बारे में रेलवे से कभी कोई बात ही नहीं की। इतना ही नहीं, सीएम केजरीवाल पर वैक्सीन की कीमतों को लेकर झूठ फैलाने का भी आरोप लगाया गया। कहा गया कि केंद्र सरकार खुद अपने पास वैक्सीन नहीं रखती है बल्कि वह तो खुद ही राज्यों को देती है।
केजरीवाल के पास कहने को कुछ नहीं
पीएमओ के सूत्रों का कहना है कि मीटिंग में जहां सभी मुख्यमंत्रियों ने कहा कि वह स्थिति में सुधार पर काम कर रहे हैं वहीं केजरीवाल के पास कहने के लिए कुछ भी नहीं था कि उन्होंने क्या किया है। पीएमओ की तरफ से कहा गया कि केजरीवाल के भाषण में किसी भी तरह के हल की बात नहीं बल्कि राजनीति और जिम्मेदारी से भागने की बात थी। पिछले बार भी पीएम के साथ बैठक में केजरीवाल जम्हाई ले रहे थे और हंस रहे थे।
भाजपा के आईटी सेल चीफ ने भी की आलोचना
भाजपा के आईटी सेल प्रमुख अमित मालवीय ने भी दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की आलोचना की। मालवीय ने कहा कि अरविंद केजरीवाल एक आपदा हैं। वह पीएम के साथ मीटिंग में बिना तैयारी के ही चले जाते हैं। उन्हें इस बात का अंदाजा ही नहीं होता है कि कौन सी चीजें पहले से ही हो रही हैं। मालवीय ने कहा कि पता नहीं केजरीवाल दिल्ली को कैसे बचाएंगे।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *