शाहीन बाग में सूनी सड़क पर फेंका पेट्रोल बम, हमले का आरोप

नई दिल्‍ली। शाहीन बाग में बैठे प्रदर्शनकारियों पर आज कथित रूप से हमले की कोशिश हुई है।
संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ प्रदर्शन पर बैठे लोगों ने आज ऐसा आरोप लगाया है। रविवार को उस बंद सड़क पर पेट्रोल बम से हमले की कोशिश होने की बात कही गई है। तस्वीरें भी आई हैं, जिसमें वहां आग लगी हुई है। कोरोना वायरस के खौफ के बावजूद वहां के लोगों ने शाहीन बाग में प्रदर्शन जारी रखने की बात कही है। आज जनता कर्फ्यू के बावजूद ये लोग सड़कों पर डटे हुए हैं।
आज से 1 प्रदर्शनकारी सिर्फ 4 घंटे ही देगा धरना
कोरोना वायरस की मौजूदा परिस्थिति में शाहीन बाग में किसी भी प्रदर्शनकारी को अब चार घंटे से ज्यादा प्रदर्शन स्थल पर बैठने की इजाजत नहीं होगी। प्रदर्शनकारियों ने बताया कि कोरोना वायरस महामारी की बढ़ती समस्या के कारण रविवार से यहां आने वाला कोई भी प्रदर्शनकारी सिर्फ चार घंटे ही धरना स्थल पर रहेगा और उसके बाद वह यहां से चला जाएगा। यह व्यवस्था रविवार से लेकर कोरोना वायरस की समस्या समाप्त होने तक या कानून वापस होने तक जारी रहेगी।
जनता कर्फ्यू पर कोई घोषणा नहीं
शाहीन बाग में जनता कर्फ्यू के दौरान धरना स्थल पर माइक से किसी तरह की कोई घोषणा नहीं होगी। प्रदर्शनकारियों ने यह भी फैसला किया है कि प्रदर्शन स्थल पर बच्चे और बुजुर्ग मौजूद नहीं होंगे, और विरोध प्रदर्शन शांतिपूर्ण तरीके से होगा।
प्रदर्शन में शामिल एक शख्स कोरोना पॉजेटिव
शाहीनबाग में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ जारी प्रदर्शन से जुड़े एक प्रदर्शनकारी में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है। जहांगीरपुरी निवासी इस शख्स की बहन इसी महीने सऊदी अरब से आई है, जो संक्रमित पाई गई है। प्रदर्शनकारी तक संक्रमण उसकी बहन से ही फैला है। यह प्रदर्शनकारी सीएए के खिलाफ पिछले दिनों शाहीन बाग में चल रहे प्रदर्शन में शामिल हुआ था। व्यक्ति के मुताबिक वह 9 फरवरी के बाद दोबारा कभी शाहीनबाग नहीं गया।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *