पप्पू जी यह मम्मी जी या मनमोहन जी की सरकार नहीं है: नकवी

नई दिल्‍ली। पंजाब में ट्रैक्टर रैली के दौरान कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के कृषि कानून को कूडे़ के डब्बे में डालने वाले बयान पर पलटवार करते हुए केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने निशाना साधा है। नकवी ने बुधवार को कहा कि राहुल को अलग-अलग फसलों के बीच का अंतर भी पता नहीं चलेगा और जब उन्हें बोया और काटा जाएगा। नकवी ने कहा कि किसी को पप्पू को बताना चाहिए कि यह मम्मी जी या मनमोहन जी सरकार नहीं है कि जब संसद एक विधेयक पारित करती है, तो आप इसे लोगों के सामने फाड़ देते हैं और इसे गैर-भावना या उपद्रव कहते हैं।
नकवी ने कहा कि यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली सरकार है, जो किसानों, गरीबों और समाज के उपेक्षित वर्गों के लिए विश्वास के साथ काम करती है। इस तरह के राजनीतिक ‘पाखंड’ के लिए हमारे फैसले नहीं बदले जाएंगे। कोई व्यक्ति जिसकी ऊपरी मंजिल खाली है, निश्चित रूप से, ऐसी बातें कहते हैं। वह समझ नहीं सकता कि हम किस तरह के मुद्दों से निपट रहे हैं। यह भी जानते हैं कि रबी और खरीफ की फसलें कब बोई और बुवाई जाती हैं और उनमें क्या होता है।
‘ये मम्मी जी या मनमोहन सिंह जी की सरकार नहीं है’
मुख्तार अब्बास नकवी कहते हैं कि जिस कृषि कानून का राहुल गांधी विरोध कर रहे हैं क्या उन्हें पता है कि कौन सी फसल किस सीजन में बोई जाती है। राहुल गांधी को फसलों के बारे में जानकारी नहीं है और वो किसानों के हित की बात करते हैं। वो कहते हैं कि कुछ लोगों को पप्पू को बताना चाहिए कि यह मम्मी जी या मनमोहन सिंह जी की सरकार नहीं है कि जब कोई कानून संसद के जरिए पारित किया जाता है तो उसे आप जनता के सामने बेहुदा बताते हुए फाड़ देते हैं।
‘जिसका ऊपरी दिमाग खाली होगा वो इस तरह की बातें करेगा’
नकवी ने कहा कि यह पीएम नरेंद्र मोदी की सरकार है, यह सरकार आम लोगों और किसानों के हितों के लिए प्रतिबद्ध है। हमारे फैसले पाखंड से भरे नहीं होते हैं। कोई भी शख्स जिसका ऊपरी दिमाग खाली होगा वो इस तरह का बातें करेगा। वो नहीं समझ सकते हैं कि किस विषय को किस तरह लोगों के बीच में रखना है, सबसे बड़ी बात यह है कि जिस शख्स को रबी और खरीफ की फसलों के बारे में ही नही पता है वो कृषि कानून पर क्या बोलेगा।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *