भारत को परमाणु बम की धमकी देने वाले पाकिस्‍तान के रेलमंत्री की हालत नाजुक

इस्‍लामाबाद। भारत पर एक पाव के परमाणु बम से हमले की धमकी देने वाले पाकिस्तानी रेल मंत्री शेख राशिद की कोरोना संक्रमित होने के बाद हालत नाजुक हो गई है। उन्हें इलाज के लिए पाकिस्तानी सेना के अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। बता दें कि 8 जून को राशिद का कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आने के बाद वह घर पर ही क्वारंटीन में थे।
कोरोना पॉजिटिव होने के बाद थे क्वारंटीन
इमरान सरकार के बढ़बोले मंत्री के परिवार के सदस्यों ने बताया है कि अब उनकी हालत पहले से ठीक है। हालांकि उन्होंने इससे इंकार किया कि उन्हें गंभीर संक्रमण होने के बाद अस्पताल में भर्ती करवाया गया। पाकिस्तान रेलवे के एक प्रवक्ता ने बताया कि रेलमंत्री शेख राशिद कोरोना पॉजिटिव पाने के बाद 14 दिनों के लिए अपने घर पर ही क्वारंटीन में थे, लेकिन तबीयत नाजुक होने के बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।
पाकिस्तान में कई राजनेता कोरोना से संक्रमित
पाकिस्तान में कोरोना वायरस के कहर से आम जनता तो परेशान है ही, लेकिन वहां के राजनेता भी इससे अछूते नहीं हैं। कोरोना संक्रमित होने वाले पाकिस्तानी राजनेताओं में पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी, शाहिद खाकन अब्बासी, नवाज शरीफ के भाई और विपक्षी पार्टी मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के प्रमुख शहबाज शरीफ भी शामिल हैं। वहीं, एक प्रांतीय मंत्री समेत कम से कम चार सांसदों की मौत कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से हो चुकी है।
इमरान पर आरोप, जानबूझकर विपक्षी नेताओं को करा रहे संक्रमित
पाकिस्तान में विपक्ष ने एकजुट होकर आरोप लगाया है कि प्रधानमंत्री इमरान खान कोरोना वायरस को राजनीतिक हथियार की तरह प्रयोग कर रहे हैं। विपक्षी पार्टी मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के प्रमुख शहबाज शरीफ और पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी ने कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद खुलकर पीएम इमरान खान पर निशाना साधा है। दोनों ही नेताओं ने कहा है कि अगर उन्हें कुछ होता है तो इसके जिम्मेदार इमरान खान होंगे।
कैसे हुए विपक्षी नेता कोरोना संक्रमित?
दोनों नेताओं ने अलग-अलग दावा किया कि उन्हें जबरदस्ती राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) के सामने पेश होने के लिए मजबूर किया गया। इसी दौरान वे संक्रमण की चपेट में आए। इतना ही नहीं, शहबाज शरीफ और यूसुफ रजा गिलानी ने यहां तक कहा कि सरकार को पहले से पता था कि एनएबी के कई अधिकारी कोरोना वायरस से संक्रमित हैं इसके बाद भी उन्हें पेश होने के लिए मजबूर किया गया।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *