पाकिस्‍तान: कुलभूषण जाधव को भारतीय वकील देने की मांग खारिज़

इस्लामाबाद। पाकिस्‍तान ने भारतीय बंदी कुलभूषण जाधव को भारतीय वकील देने की मांग को खारिज़ कर दिया है। पाकिस्तान ने गुरुवार को कहा कि देश की अदालत में भारतीय कैदी कुलभूषण जाधव का प्रतिनिधित्व करने के लिए किसी भारतीय वकील को अनुमति देना कानूनी रूप से हमारे लिए संभव नहीं है। पाकिस्तान विदेश कार्यालय के प्रवक्ता जाहिद हफीज चौधरी ने भारत की मांग के बारे में पूछे गए सवाल के जवाब में यह कहा।
चौधरी ने कहा कि भारतीय पक्ष जाधव का प्रतिनिधित्व करने के लिए किसी भारतीय वकील को अनुमति देने की असंगत मांग कर रहा है। हमने बार-बार उन्हें कहा है कि केवल वे वकील ही अदालत में जाधव का प्रतिनिधित्व कर सकते हैं, जिनके पास पाकिस्तान में वकालत करने का लाइसेंस है। प्रवक्ता ने यह भी कहा कि भारतीय उच्चतम न्यायालय ने अपने एक निर्णय में कहा है कि देश के अंदर विदेशी वकील वकालत नहीं कर सकते।
भारत ने की थी भारतीय वकील को अनुमति देने की मांग
बता दें कि पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत ने अप्रैल 2017 में भारतीय नौसेना के पूर्व अधिकारी जाधव (50) को ‘जासूसी और आतंकवाद’ के आरोप में मौत की सजा सुनाई थी। इससे पहले भारत ने जोर दिया था कि वह चाहता है कि जब पाकिस्तान की अदालत में कुलभूषण जाधव की मौत की सजा की समीक्षा याचिका पर सुनवाई हो तो उनका प्रतिनिधित्व भारतीय वकील करें। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने संवाददाताओं से कहा कि भारत राजनयिक माध्यमों के जरिए जाधव से जुड़े मामले में पाकिस्तान से सम्पर्क में है।
अनुराग ने कहा, ‘अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय के फैसले की भावना के अनुरूप स्वतंत्र एवं निष्पक्ष सुनवाई के लिए हमने एक भारतीय वकील द्वारा जाधव का प्रतिनिधित्व करने को कहा है। हालांकि पाकिस्तान को पहले इस मुद्दे के मुख्य बिंदुओं पर ध्यान देना चाहिए और मामले से संबंधित कागजात और जाधव को बेरोकटोक राजनयिक पहुंच प्रदान करनी चाहिए।’ गौरतलब है कि हाल ही में इस्लामाबाद हाई कोर्ट ने जाधव मामले में तीन वरिष्ठ वकीलों को न्याय मित्र नामित किया था और पाकिस्तान सरकार को आदेश दिया था कि मौत की सजा का सामना कर रहे जाधव के लिए वकील नियुक्त करने का भारत को एक और मौका दे।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *