जमानत के लिए अब सुप्रीम कोर्ट पहुंचे P. Chidambaram

नई दिल्‍ली। दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद पूर्व वित्त मंत्री P. Chidambaram ने आईएनएक्स मीडिया करप्शन केस में नियमित जमानत के लिए गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट का रुख किया। Chidambaram की तरफ से सीनियर एडवोकेट कपिल सिब्बल ने जिस्टस एन. वी. रमन्ना की अगुआई वाली बेंच के सामने याचिका का जिक्र किया और तत्काल सुनवाई के लिए सूचीबद्ध करने की मांग की। सिब्बल ने कहा कि आने वाले 1 हफ्ते सुप्रीम कोर्ट में दुर्गा पूजा की छुट्टियां रहेंगी इसलिए मामले की तत्काल सुनवाई जरूरी है। उन्होंने कोर्ट से जमानत याचिका पर शुक्रवार को सुनवाई करने की अपील की।
बेच में जस्टिस संजीव खन्ना और जस्टिस कृष्ण मुरारी भी शामिल हैं। बेंच ने कहा कि Chidambaram की याचिका को सीजेआई रंजन गोगोई के पास भेजा जाएगा जो इसकी उपयुक्त बेंच में सुनवाई के लिए लिस्टिंग तय करेंगे। उनके पास फाइल भेज दी गई है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. Chidambaram फिलहाल आईएनएक्स मीडिया केस में न्यायिक हिरासत में हैं। 30 सितंबर को दिल्ली हाई कोर्ट ने उनकी नियमित जमानत याचिका को खारिज कर दिया था।
21 अगस्त को गिरफ्तार हुए थे Chidambaram
Chidambaram को सीबीआई ने 21 अगस्त उनके जोर बाग स्थित आवास से गिरफ्तार किया था। सीबीआई और ईडी ने आईएनएक्स मीडिया की प्रमोटर इंद्राणी मुखर्जी और उनके पति पीटर मुखर्जी के बयानों के आधार पर Chidambaram पर शिकंजा कसा। जांच अभी जारी है और मामले में कई गड़बड़ियां पाई गई हैं। आरोप है कि आईएनएक्स मीडिया ग्रुप को 2007 में 305 करोड़ रुपये का विदेशी धन हासिल करने के लिए विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड की मंजूरी में अनियमितता बरती गई। उस दौरान पी चिदंबरम वित्त मंत्री थे। वह 5 सितंबर से ही तिहाड़ जेल में है। हाई कोर्ट में सीबीआई ने यह कहते हुए Chidambaram की जमानत का विरोध किया था कि यह एक गंभीर अपराध है और चिदंबरम को इस बात का अहसास है कि उन्हें दोषी ठहराया जा सकता है। ऐसे में चिदंबरम भागने की कोशिश कर सकते हैं। जांच एजेंसी की तरफ वकीलों की टीम ने कोर्ट में दलीलें दीं। इसमें सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता और सीनियर वकील अमित महाजन भी शामिल थे। इन वकीलों ने कोर्ट में दलील दी कि चिदंबरम के पास विदेश में बसने के संसाधन हैं। ऐसे में जब तक उनका ट्रायल पूरा नहीं होता तब तक उन्हें रिहा नहीं किया जाना चाहिए।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *