प. बंगाल: ममता सरकार के परिवहन मंत्री सहित एक विधायक का भी इस्तीफा

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में अगले साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। इससे पहले सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) को झटका लगा है। पार्टी के वरिष्ठ नेता और परिवहन मंत्री सुवेंदु अधिकारी ने शुक्रवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। ऐसी अटकले हैं कि वे भाजपा में शामिल हो सकते हैं हालांकि इसे लेकर कोई पुष्ट जानकारी नहीं है।

इससे पहले उन्होंने सरकारी निगम के पद से इस्तीफा दिया था। कई महीने से विद्रोही रुख दिखा रहे अधिकारी ने खुद को मनाने के लिए की जा रही कोशिशों के बीच अचानक हुगली रिवर ब्रिज कमिश्नरेट (एचआरबीसी) के चेयरमैन पद से इस्तीफा दे दिया था। पार्टी ने भी उनके इस्तीफे को स्वीकार कर लिया था।

दरअसल मुख्यमंत्री और टीएमसी अध्यक्ष ममता बनर्जी ने बुधवार को बांकुरा में आयोजित एक रैली में खुद को राज्य के सभी जिलों का इकलौता पार्टी ऑब्जर्वर घोषित किया था। सुवेंदु के करीबी सूत्रों के मुताबिक, कई जिलों में ऑब्जर्वर की भी जिम्मेदारी संभाल रहे अधिकारी को ममता की घोषणा पसंद नहीं आई है और उन्होंने इस्तीफा देकर अपना मौन विरोध प्रकट किया है।

भाजपा सांसद के साथ दिल्ली रवाना हुए टीएमसी विधायक गोस्वामी

टीएमसी विधायक मिहिर गोस्वामी ने भी इस्तीफा दे दिया है, वे शुक्रवार को भाजपा सांसद निशीत प्रमाणिक के साथ दिल्ली के लिए रवाना हो गए हैं। राज्य में मौजूद भाजपा के सूत्रों के अनुसार, गोस्वामी आज भाजपा में शामिल हो सकते हैं। दो दिन पहले ही टीएमसी के वरिष्ठ नेता रवींद्रनाथ घोष ने उनके आवास पर जाकर उनसे मुलाकात की थी। गोस्वामी ने गुरुवार को कहा था कि उनके लिए पार्टी के साथ जुड़े रहना मुश्किल है क्योंकि वह अब ज्यादा अपमान नहीं सह पाएंगे। गुरुवार को फेसबुक पोस्ट में उन्होंने लिखा था, ‘मेरे लिए टीएमसी में रहना मुश्किल हो गया है, जिसके साथ मैं पिछले 22 सालों से जुड़ा हुआ हूं।’

मोदी-शाह से डरती क्यों हैं ममता बनर्जी
पश्चिम बंगाल भाजपा के अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा, ‘जब हमारे नेता दिल्ली से आते हैं तो ममता जी डर जाती हैं। जब बापू गुजरात से आते थे तो आप उनका सम्मान करती थीं, उसी गुजरात से जब मोदी जी और अमित जी आते हैं तो आपको डर क्यों लगता है? पश्चिम बंगाल को पश्चिम बांग्लादेश बनाने की साजिश की जा रही है, यहां आतंकी समूह सक्रिय हैं, हम इसकी स्थिति को सुधारना चाहते हैं।’

– एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *