कल्पतरु ग्रुप ऑफ कंपनीज के मालिक जयकृष्‍ण राणा की कोरोना से मौत

मथुरा। कई राज्यों के किसान और निवेशकों का करोड़ों रुपये लेकर भूमिगत रहे कल्पतरु ग्रुप ऑफ कंपनीज के मालिक जयकृष्ण सिंह राणा की आज कोरोना से मौत हो गई।
मृतक ने चिट फंड कंपनियां खोलकर गुजरात, यूपी, हरियाणा, राजस्थान, मध्यप्रदेश समेत कई राज्यों में अपना नेटवर्क फैलाकर एजेंटों के जरिए निवेशकों से कंपनी में रकम जमा कराई और उसको हड़प गया। आरोपित के खिलाफ विभिन्न थानों में चार दर्जन से अधिक मुकदमा दर्ज थे। पुलिस ने जेके राणा की गिरफ्तारी पर पंद्रह हजार रुपये का ईनाम और भगोड़ा भी घोषित कर दिया लेकिन वह मरते दम तक पुलिस की गिरफ्त में नहीं आया।
मथुरा की चंदन वन कॉलोनी का निवासी जेके सिंह राणा पिछले दिनों कोरोना संक्रमित हो गया था। कोरोना से संक्रमित होने पर उसे नयति अस्पताल में भर्ती कराया गया। रात को उसकी मौत हो गई। एसएसपी डा. गौरव ग्रोवर ने भी राणा की मौत की पुष्टि की। उसने कल्पतरु बिल्डटैक कंपनी का मुख्यालय थाना फरह क्षेत्र के गांव चुरामुरा पर खोला था। जेके सिंह राणा ने गुजरात, यूपी, हरियाणा, राजस्थान, मध्यप्रदेश समेत कई राज्यों में अपना नेटवर्क फैला रखा था। चिट फंड कंपनी, भूखंड और फ्लैट में लोगों के निवेश कराए। करोड़ों रुपये की ठगी करने के बाद जय कृष्ण राणा फरार हो गया। चंदनवन स्थित अपनी दो कोठियों पर इंडियाबुल्स कंपनी से करोड़ों रुपये का कर्ज भी ले लिया। बाद में कंपनी ने इन कोठियों को नीलाम कर दिया। आयकर विभाग का भी करीब 80 करोड़ रुपये का इनकम टैक्स बकाया था। बकाए की वसूली के लिए आयकर विभाग ने केबीसीएल इंडिया लिमिटेड, कल्पतरु परिसर औरंगाबाद, मेसर्स कल्पतरु बिल्डटैक कारपोरेशन लिमिटेड की चल-अचल संपत्ति को कुर्क कर लिया था। चुरमुरा में उसने किसानों की भी जमीन खरीद ली थी और बैनामा कराने के बाद उनकी भुगतान नहीं किया। आगरा के मलपुरा निवासी धाराजीत ने छह दर्जन लोगों के साथ थाना फरह में एक साथ चौदह मुकदमे राणा के खिलाफ दर्ज कराए थे। पानीपत, गोरखपुर, देवरिया, सिद्धार्थ नगर, महराजगंज और बलिया के निवेशकों ने भी थाना फरह में राणा के खिलाफ मुकदमे दर्ज कराए थे। वर्ष 2003 में राणा के खिलाफ सेबी ने राणा के 250 से अधिक कार्यालयों को बंद कराकर सभी जिलाधिकारियों और पुलिस अधीक्षकों को कार्यवाही किए जाने के निर्देश भी जारी किए थे।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *