डॉ. ढोलकिया की जयंती पर ओरल कैंसर स्क्रीनिंग शिविर आयोजित

मथुरा। के.डी. डेंटल कॉलेज के ओरल पैथोलॉजी विभाग द्वारा डॉ. एच.एम. ढोलकिया की जयंती पर ओरल कैंसर स्क्रीनिंग शिविर का आयोजन किया गया जिसमें छात्र-छात्राओं को मौखिक रोगविज्ञान से अवगत कराया गया। स्नातक छात्र-छात्राओं ने सक्रिय रूप से पाथआर्ट और पोस्टर मेकिंग प्रतियोगिताओं में भी सहभागिता की। कार्यक्रम का शुभारम्भ डीन डॉ. मनेष लाहौरी ने किया।

डॉ. मनेष लाहौरी ने छात्र-छात्राओं को बताया कि डॉ. एच.एम. ढोलकिया भारत के पहले ओरल पैथोलॉजिस्ट थे। उनकी जयंती पर प्रतिवर्ष मौखिक रोगविज्ञान के महत्व से आमजन को अवगत कराया जाता है। डॉ. लाहौरी ने छात्र-छात्राओं का आह्वान किया कि मुख कैंसर और मुख से जुड़ी सभी बीमारियों के विषय में हमें लोगों को समय-समय जानकारी देते रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि ओरल कैंसर स्क्रीनिंग शिविर का मुख्य उद्देश्य छात्र-छात्राओं और फैकल्टी मेम्बर्स में कैंसर एवं अन्य मुख के रोगों के प्रति जागरूकता पैदा करना है।

विभागाध्यक्ष डॉ. उमेश चंद्र प्रसाद ने इस दिन को मनाने के महत्व के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि नेशनल ओरल पैथोलॉजी दिवस की शुरुआत इंडियन एसोसिएशन आफ ओरल एण्ड मैक्सिलोफेशियल पैथोलॉजिस्ट (Indian Association of Oral and Maxillofacial Pathologists) द्वारा वरिष्ठ ओरल पैथोलॉजिस्ट डॉ. एच.एम. ढोलकिया के जन्मदिन पर हुई। इस अवसर पर डॉ. सुहास सेट्टी द्वारा अनुसंधान पद्धति पर एक वेबिनार का आयोजन किया गया। डॉ. सेट्टी ने छात्र-छात्राओं को मौखिक रोगविज्ञान विषय पर विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि मौखिक रोगविज्ञान का व्यापक क्षेत्र है। इसमें मुंह के आसपास तथा सिर और गर्दन के चारों ओर सभी बीमारियां शामिल होती हैं। मौखिक रोगविज्ञान में मरीजों की गुहाएं, दांतों की कमी, ओरो-दंत आघात, कटे-फटे होंठ और ताल का इलाज किया जाता है।

डॉ. सेट्टी ने कहा कि मरीज की चिकित्सा के बाद भी समय-समय पर जांच की आवश्यकता होती है। उन्होंने कहा कि यदि किसी मरीज को अपनी जीभ के रंग में बदलाव दिखता है, तो उसे मौखिक रोग विशेषज्ञ से तुरंत परामर्श जरूर लेना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि श्लेष्मा के रंग में परिवर्तन कैंसर की शुरुआत को इंगित करता है। इसे हम मुख कैंसर का प्रारम्भिक चरण भी कह सकते हैं। कार्यक्रम में डॉ. रामबल्लभ, कॉलेज के प्राध्यापक तथा सभी विभाग प्रमुख और संकाय सदस्य उपस्थित थे।
– Legend News

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *