ऑफलाइन रीटेलर्स ने बैन किए Realme के स्मार्टफोन

नई दिल्‍ली। 1 फरवरी के बाद से हुए चेंजेस के बाद ऑनलाइन और ऑफलाइन रीटेलर्स और सेलर्स के बीच सामने आई मुश्किलों को दूर करने की कोशिश की जा रही है। सेलफोन रीटेलर्स ने फैसला किया है कि वे बड़ा ऑनलाइन डिस्काउंट देने वाले किसी ब्रैंड के स्मार्टफोन या डिवाइसेज नहीं बेचेंगे। आईटी प्रोडक्ट्स बेचने वाले रीटेलर्स ने कहा कि उनकी टॉप ब्रैंड्स डेल, एचपी, लेनोवो, एसर और आसुस के साथ डील हुई है कि वे ऑनलाइन और ऑफलाइन स्टोर्स पर प्रोडक्ट्स को एक ही दाम पर बेचेंगे।
दरअसल, ऑफलाइन रीटेलर्स अब उन स्मार्टफोन ब्रैंड्स के खिलाफ ऐक्शन लेने जा रहे हैं, जो ऑनलाइन बड़े डिस्काउंट्स देते हैं और कम कीमत पर ऑनलाइन एक्सक्लूसिव मॉडल्स लॉन्च कर रहे हैं। ऐमजॉन और फ्लिपकार्ट दोनों के लार्ज सेलर्स नॉर्मल ऑपरेशन करने लगे हैं और ब्रिक-ऐंड-मोर्टार स्टोर्स को डर है कि स्मार्टफोन्स, कंप्यूटर्स और कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स पर ई-कॉमर्स साइट्स आने वाले दिनों में बड़े डिस्काउंट्स दे सकती हैं।
यह उस पीरियड के बाद आया है जब कुछ ऑनलाइन मार्केटप्लेस को रिवाइज्ड एफडीआई नॉर्म्स के चलते कुछ बदलाव करने पड़े हैं।
कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स रीटेलर्स इन्हीं वजहों से परेशान हैं। ब्रिक-ऐंड-मोर्टार ग्रुपिंग्स देशभर में करीब 70,000 आउटलेट्स को रिप्रेजेंट करती हैं और इनका ध्यान एफडीआई फंडेड ईकॉमर्स साइट्स पर है। इन साइट्स पर दिए जाने वाले डिस्काउंट्स के चलते रीटेल आउटलेट्स को बड़ा नुकसान उठाना पड़ रहा है। लीडिंग सेलफोन चेन्स जैसे-संगीता, पूर्विका और बिग सी ने फैसला किया है कि वे ऑनलाइन फोकस्ड ब्रैंड रियलमी की डिवाइसेज नहीं बेचेंगे।
ऑल इंडिया मोबाइल रीटेलर्स असोसिएशन (AIMRA) के प्रेसीडेंट अरविंद खुराना ने कहा, ‘ऑफलाइन सेलफोन स्टोर्स उन ब्रैंड्स के साथ कॉपरेट नहीं करेंगे जो ऑनलाइन एक्सक्लूसिव स्मार्टफोन लॉन्च करना जारी रखेंगे और ऑफलाइन मॉडल्स से ज्यादा डिस्काउंट ऑनलाइन देंगे।’ फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया आईटी एसोसिएशन (FAIITA) के सेक्रटरी साकेत कपूर ने भी इसे लेकर कहा है कि कई बड़े ब्रैंड्स के साथ अग्रीमेंट हुआ है और प्राइसिंग को लेकर उनकी राय एक सी बनी है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *