अब अंतरिक्ष को लेकर भिड़े दुनिया के दो अरबपति

दुनिया के दो सबसे अमीर लोग, Tesla के मालिक Elon Musk और ऐमजॉन के मालिक Jeff Bezos आमने-सामने हैं। इस बार मामला धरती पर का नहीं बल्कि अंतरिक्ष का है।
दरअसल, मस्क की कंपनी SpaceX को अमेरिकी स्पेस एजेंसी NASA ने 3 अरब डॉलर का एक कॉन्ट्रैक्ट दे दिया है। इसे लेकर बिजनस वर्ल्ड की ये दोनों बड़ी हस्तियां आमने-सामने आ गई हैं। ये कंपनियां कम कीमत पर क्लाइंट्स के लिए सैटलाइट कक्षा में प्रक्षेपित करती हैं और रॉकेट के कुछ हिस्सों का दोबारा इस्तेमाल करते हैं।
क्या था मामला?
दोनों अरबपति लंबी दूरी के कक्षा में जाने वाले रॉकेट लॉन्च करने की कोशिश कर रही हैं। ये दोनों अमेरिकी सरकार के ठेके के लिए एक-दूसरे से प्रतियोगिता में थीं। इसके तहत साल 2024 में ऐस्ट्रोनॉट्स को चांद पर ले जाने वाले Artemis मिशन के लिए स्पेसशिप तैयार करना था। यह कॉन्ट्रैक्ट मस्क की कंपनी को मिल गया जो बेजोस को गवारा नहीं था। बेजोस की कंपनी Blue Origin ने सोमवार को गवर्नमेंट अकाउंटबिलिटी ऑफिस (GAO) में NASA के खिलाफ विरोध दर्ज कराया है और आरोप लगाया है कि आखिर मौके पर नीलामी की कंडीशन्स को बदल दिया गया।
मस्क ने ली चुटकी
इस खबर पर मस्क ने चुटकी लेते हुए कहा, ‘कक्षा में ले जा नहीं सके LOL’। उन्होंने आगे कुछ नहीं लिखा लेकिन बेजोस के Blue Origin मून लैंडर का अनावरण करते हुए एक 2019 की एक रिपोर्ट का स्क्रीनशॉट शेयर किया है। Blue Origin ऑर्बिटल ट्रांसपोर्टेशन में SpaceX और यूनाइटेड लॉन्च अलायंस (बोईंग को. और लॉकहीड मार्टिन कॉर्प) से पीछे है। उसने कई अरबों डॉलर का अमेरिकी नेशनल सिक्यॉरिटी लॉन्च का कॉन्ट्रैक्ट भी गंवा दिया है।
Blue Origin ने की शिकायत
NASA ने चांद मिशन का कॉन्ट्रैक्ट SpaceX को दिया और Blue Origin को Dynetics के साथ हार देखनी पड़ी। Blue Origin ने एक बयान में कहा है कि नासा ना ह्मयूमन लैंडिंग सिस्टम के लिए गलत तरह से अधिग्रहण किया है और आखिर मौके पर लक्ष्य को बदल दिया। आरोप लगाया गया है कि इस फैसले से प्रतियोगिता की जगह नहीं रह गई और सप्लाई बेस कम हुआ। साथ ही अमेरिका के चांद पर जाने के सपने में देरी और मुश्किल भी खड़ी हो गई है इसलिए विरोध किया जा रहा है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *