अब कार के टायरों को लेकर भी नियम बने, 1 अक्टूबर से होंगे लागू

नई दिल्‍ली। जल्द ही आपकी कार के टायरों से जुड़े कुछ नए नियम लागू होने वाले है। केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्रालय ने कार, बस और ट्रकों के टायरों के लिए सड़क पर आवर्ती-घर्षण, टायर की पकड़ और वाहन के चलते समय टायर से होने वाली आवाज के बारे में नियमों का एक ड्राफ्ट जारी किया है।
नए नियमों के तहत आने वाले दिनों में टायरों की भी स्टार रेटिंग और लेबलिंग होगी। नए नियमों से पैसेंजर कार और कॉमर्शियल व्हीकल के टायरों को सड़क पर सुरक्षा मिलेगी और साथ ही तेल की भी बचत होगी। आइए जानते हैं इन नए नियमों के बारे में।
1 अक्टूबर से लागू होंगे नए नियम
नए मॉडलों के लिए टायरों से जुड़ा ये नियम 1 अक्टूबर 2021 से लागू होगा। वहीं मौजूदा कारों के टायरों के लिए इसे 1 अक्टूबर 2022 से लागू करने का प्रस्ताव रखा गया है। ऑटो इंडस्ट्री के विशेषज्ञों की मानें तो इस नए नियम से लोगों की यात्रा पहले से भी अधिक आरामदायक हो जाएगी। सरकार की तरफ से जारी प्रेस रिलीज के अनुसार स्टार रेटिंग लाने का मकसद यह सुनिश्चित कराना है कि वाहनों के टायर अधिक भरोसे मंद और अच्छे हों।
अभी क्या हैं नियम?
मौजूदा समय में बहुत सारी कंपनियां टायर के बिजनेस में हैं। टायरों की गुणवत्ता के लिए BIS नियम है लेकिन इससे ग्राहकों को यह नहीं पता चलता कि उन्हें कौन सा टायर खरीदना चाहिए। यानी यह नियम लोगों को टायर खरीदने में मददगार साबित नहीं होता। ऐसे में सरकार टायरों के लिए स्टार रेटिंग ला रही है, जिससे टायर खरीदने का फैसला आसानी से लिया जा सके।
कारों को हर पैमाने पर बेहतर बनाना चाहती है सरकार
हाल ही में सिएट कंपनी ने टायरों के लिए लेबल सिस्टम शुरू किया है, जिससे किसी भी ग्राहक को कार के लिए टायर खरीदने में मदद मिलती है। आने वाले वक्त में इसी तरह स्टार रेटिंग से भी टायर खरीदने में मदद मिलेगी। सरकार कारों की क्वालिटी को हर पैमाने पर बेहतर बना रही हैं क्योंकि भारत अब ऑटोमोबाइल एक्सपोर्ट हब बनता जा रहा है और आने वाले समय में ऐसे नियमों की जरूरत पड़ेगी।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *