अब इंडियन आर्मी के पास होगा अचूक ‘पार्थ’, छिप नहीं पाएंगे आतंकी

लखनऊ। आतंकियों से मुठभेड़ के दौरान अकसर उन्हें लोकेट करने में मुश्किल आती है। एनकाउंटर के वक्त कई बार आतंकी सुरक्षाबलों के आसपास होते हैं लेकिन उनका पता नहीं चल पाता है। छिपे हुए आतंकी जवानों को अपनी गोलियों का निशाना बनाते हैं।
अब आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए सुरक्षाबलों के पास एक ऐसा हथियार आने वाला है, जिससे न तो वह छिप पाएंगे और न ही बच पाएंगे। पार्थ गन शॉट लोकेटर नाम की इस स्वदेशी डिवाइस से आतंकियों का बच पाना लगभग नामुमकिन होगा।
अर्जुन के गांडीव जैसा अचूक ‘पार्थ
महाभारत के चर्चित पौराणिक किरदार अर्जुन को श्रीकृष्ण अकसर पार्थ के नाम से पुकारते थे। अर्जुन की ख्याति ऐसे धनुर्धर के रूप में थी, जिनका निशाना अचूक होता था। उनके पास गांडीव नाम का धनुष था। जिसकी बदौलत उन्होंने महाभारत के युद्ध में अपना अदम्य शौर्य दिखाया था। इसी तर्ज पर भारतीय सेना के ‘गांडीव’ में अब पार्थ जैसा सटीक और अचूक अस्त्र आने जा रहा है, जिसके आगे आतंकी पनाह मांगते नजर आएंगे।
400 मीटर के दायरे में आतंकियों की देगा सटीक लोकेशन
आर्मी इंस्टिट्यूट और एक प्राइवेट फर्म ने संयुक्त रूप से इस डिवाइस का निर्माण किया है। यह गन शॉट लोकेटर 400 मीटर की दूरी से हो रहे फायर की सटीक लोकेशन बता सकता है। इसकी बदौलत सुरक्षाबलों पर छिपकर गोली चला रहे आतंकियों तक पहुंचना आसान होगा। डिवाइस की मदद से एनकाउंटर या किसी ऑपरेशन के दौरान आतंकी को लोकेट करके उसे ढेर करने में काफी मदद मिलेगी। भारतीय सेना के मेजर अनूप मिश्रा ने डिफेंस एक्सपो के दौरान इस अनूठी डिवाइस का ट्रेलर दिखाया।
विदेशी डिवाइस के मुकाबले 20 गुना किफायती
खास बात यह है कि देश में ही निर्मित यह गन शॉट लोकेटर काफी किफायती है। विदेश में बने गन शॉट लोकेटर के मुकाबले यह 20 गुना से ज्यादा किफायती है। जहां एक ओर इसी तरह के उपकरण को विदेश से मंगाने पर तकरीबन 65 लाख रुपये का खर्चा आता है, वहीं इस स्वदेशी गन शॉट लोकेटर को बनाने में करीब 3 लाख का ही खर्चा आएगा। डिफेंस एक्सपो के दौरान भारतीय सेना ने इसकी खूबियों के बारे में जानकारी दी।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *